Wednesday, 3 February 2016

आज की सबसे बड़ी जरुरत ------- आध्यात्मिक शक्ति

आज  के  समय  में  अत्याचार , अन्याय , भ्रष्टाचार  अपनी  चरम  सीमा  पर  पहुँच  गया  है   । ऐसे   अनुचित  कार्य  करने  वालों  पर  दुर्बुद्धि  हावी  है    ।  अत्याचारी  और  अन्यायी    लोगों  को  उत्पीड़ित  कर   समझते  हैं  कि  उन्होंने  कोई  बहुत  बड़ा  काम  कर  लिया  जबकि  सच्चाई  यह  है  कि  ऐसा  कर  के  वे  अपने  हाथ  से   अपना  दुर्भाग्य  लिखते  हैं  ।
  समस्या  यह  है  कि  ऐसे  लोगों  का  सामना  कैसे  किया  जाये   ?   अत्याचारी  इतना  संगठित  होता  है  कि  अपनी  शारीरिक  शक्ति  या  भौतिक  साधनों  से   उससे  निपटना  कठिन  है   ।   कर्मयोगी   बनकर  ही  इनसे  निपटा  जा  सकता  है  ।   संसार  में  रहते  हुए  अपने  कर्तव्य  का  पालन  करें ,  ईश्वर  का  स्मरण  करते  हुए    निष्काम  कर्म  करें    तो   सम्पूर्ण  प्रकृति    समस्याओं    से  सफलतापूर्वक  निपटने  के  लिए  हमें  अपना  सहयोग  प्रदान  करती  है   ।  यही  एक  रास्ता  है    जिससे  मन  के  विकार  दूर  होते  हैं  और  अपनी  अन्तरात्मा  से  मार्गदर्शन  और  प्रेरणा  प्राप्त  होती  है   । 

No comments:

Post a comment