Monday, 22 February 2016

ईर्ष्या करने वालों से दूर रहें

वर्तमान  समय   में  यदि  हम  अपने   चारों  तरफ  नजर  डालें  तो  यह  बात  स्पष्ट  देखने  को  मिलेगी  कि  जो  गरीब  है  वह  अपनी  समस्याओं  में  उलझा  हुआ  है  ,  उसके  पास  सुख - सुविधा  के  साधन  बहुत  कम  हैं   लेकिन  उन  कम  साधनों  में  भी  वह   तीज -त्योहार  मनाकर,  छोटी - छोटी  खुशियों  में  भी  आनंदित  हो  जाता  है  l  आश्चर्य  की  बात  तो  ये  है  कि  जो  समर्थ  हैं ,  जिनके  पास  पद  है ,  प्रतिष्ठा  है  सुख - सुविधा  के  सब  साधन  हैं  वे   ईर्ष्या  के  रोग  के  शिकार  हैं   ।  ऐसे  व्यक्ति   दूसरों   की  तरक्की ,  किसी  की  सुख - शान्ति  देख  नहीं  पाते  , ओछे   हथकण्डे  अपनाकर  दूसरों  को  नीचा  दिखाने  का  प्रयास  करते  हैं  ।
       यदि  हमारे  जीवन  की  दिशा  सही  है ,  हम  कभी  किसी  का  अहित  नहीं  करते  ,  ईश्वरीय  विधान  में  विश्वास  रख   सही  तरीके  से  जीवन  जीते  हैं  , सत्कर्म  करते  हैं   तो   किसी  की  कुटिल  चालों   से  हमारा  कोई  अहित  नहीं  होगा   ।  आज  के  समय  की  समस्याओं  से  निपटने के  लिए  जरुरी  है  कि  हमारा  विवेक  जाग्रत  हो  ।  सत्कर्म  करें  और  ईश्वर  से  सद्बुद्धि  के  लिए  प्रार्थना  करें  ।  कहते  हैं  जिससे  ईश्वर  प्रसन्न  होते  हैं  उसे  सद्बुद्धि  देते  है   और  जिससे  नाराज  हो  जाते  हैं  उसे  दुर्बुद्धि  देते  हैं   ।  

No comments:

Post a comment