Saturday, 27 February 2016

समाज में बढ़ती अशान्ति व अपराधों के लिए समाज ही जिम्मेदार है

  कभी  ऐसा  समय  था   कि   लोग   अपराधियों  से  ,  अनाचारी  व्यक्ति  से  दूर  रहते  थे   क्योंकि  ऐसा  माना  जाता  था   कि  गलत  लोगों  के  साथ  उठने - बैठने  से  अपनी  भी  इमेज   ख़राब  होती  है   ।   लेकिन  अब  व्यक्ति   अपने  छोटे - छोटे  स्वार्थों  के  लिए   अपराधी  प्रवृति  के  लोगों  से  व्यवहार   रखते  हैं  ,  उन्हें  सम्मान  देते  हैं   ।  वे  यह  भूल  जाते  हैं  कि  अपराधी  व्यक्ति  किसी  का  हितैषी  नहीं  होता   । 
    सबसे  महत्वपूर्ण  बात  यह  है  कि  जो  अपराधी  है ,  वह  तो  कभी  सुधरेगा  नहीं   लेकिन  जो  लोग  लाभ  कमाने  के  लिए  ,  अपने  हित   पूरे   करने  के  लिए  उनका  साथ  देते  हैं    उन्हें  अपने  जीवन  का  अवलोकन  करके  यह  समझना  चाहिए  कि  ऐसे  लोगों  का  साथ  देने  से  जीवन  में  क्या  मिला  ?
           धन  कमा  लेना  ही  पर्याप्त  नहीं  है  ,  क्या  जीवन  में  सुख - शान्ति  है   ? परिवार , बच्चे  सब  सुरक्षित  हैं  ?  कहीं  कोई  भय  तो  नहीं  है   ? ऐसे  बहुत  से  प्रश्नों  का  उत्तर  उन्हें  स्वयं  से  लेना  है   ।  जब  सारा  समाज  ऐसे  अपराधियों  का  बहिष्कार  करेगा   तभी  समाज  में  शान्ति  होगी    l 

No comments:

Post a comment