Tuesday, 23 February 2016

शान्तिपूर्ण जीवन के लिए सकारात्मक सोच जरुरी है

इस  संसार  में  ऐसा  कोई  नहीं  जिसके  जीवन  में  कष्ट - कठिनाइयाँ  न  आती  हों   । जब  कष्ट  और  मुसीबतें  जीवन  में  आ  ही  गई  हैं  तो  उन्हें  ईश्वरीय  व्यवस्था  मानकर  ख़ुशी  से  स्वीकार  करें  ।  कष्ट  जब  सहना  ही  है  तो  रो कर ,  उनका   ढिंढोरा  पीट  कर  उन्हें  और  बढ़ाने  से  कोई  फायदा  नहीं  ।
  कष्टों  को  हम  शान्त  रहकर  सहन  करें  । विपत्ति  के  समय  में  सकारात्मक  कार्य  में और  सत्साहित्य  के  अध्ययन  में  स्वयं  को  व्यस्त  रखें   जिससे  उन  कष्टों  की  चुभन  कम  होगी  ।
  सबसे  महत्वपूर्ण  बात  यह  है  कि  कष्ट  के  समय  में  भी  सत्कर्म  करना  न  भूलें ,  ईश्वर  पर  विश्वास  रखें  ,  ईश्वर  से  प्रार्थना  करें  कि  वे  हमें  इन  कष्टों  को  सहने  की  शक्ति  दें  और  हमारे  जीवन  को  सही  दिशा  दें  । यह  जीवन  भी  एक  सफर  है,   यात्रा  है  जरुरी  नहीं  कि  हमें  पक्की  सड़कों  और  हरियाली  के   रास्ते   से  गुजरना  पड़े  ।  यह  संभव  है  कि  अपने  जीवन  की  सुनहरी  सुबह  तक  पहुँचने  का  रास्ता  झाड-झंखाड़  और  काँटो  से  भरा  हो  ।  जिसे  लोग  कष्ट  कहते  हैं  वो  वास्तव  में  गंतव्य  तक  पहुँचने  के  लिए  बीच - बीच  में  पड़ने  वाले  छोटे-छोटे  स्टेशन  हैं  । 

No comments:

Post a comment