Wednesday, 24 August 2016

कष्ट और दुःख के दिनों में हताश होकर न बैठें

   सामान्यतया   यह  देखा  जाता  है  कि  लोगों  के  जीवन  में  कोई  आकस्मिक  दुर्घटना ,  विपत्ति , बीमारी  आदि  परेशानियाँ  आ  गईं  तो  वे  सब  मित्रों  से  ,  दूर - दूर  के  रिश्तेदारों  से  इसकी  चर्चा  करेंगे   ।  ऐसा  करने  से  वे  परेशानियाँ घटती  नहीं  है   बल्कि  बार - बार  उनकी   चर्चा    करने  से   वे   ताजी   बनी  रहती  हैं   l     जरुरी  ये  है  कि  ऐसे  समय  में  सकारात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रहें  ,  श्रेष्ठ  साहित्य  का  स्वाध्याय  करें    सबसे  बढ़कर  निष्काम   कर्म   की  गति  व   मात्रा     बढ़ा    दें  ।
    

No comments:

Post a comment