Monday, 29 August 2016

जीवन में सुख - शान्ति के लिए विवेक जरुरी है

  अधिकांश  लोग  अपना  सारा  जीवन  इसी  उधेड़बुन  में  गँवा  देते  हैं  कि---- हमें  सम्मान  नहीं  मिला ,  किसी  ने  हमारी  बात  को  महत्व  नहीं  दिया , हमारी  आलोचना  की ,  हंसी  उड़ाई ,  हमारा  अपमान  किया ---- ।   हमें  इस  सत्य  को  हमेशा  याद  रखना  चाहिए  कि  प्रत्येक  व्यक्ति  अपने  स्वभाव,  अपने  संस्कार  के  अनुरूप  ही  किसी  से  व्यवहार  करता  है  ,   वह  अपने  व्यवहार  से   स्वयं  को  हमारे  सामने  प्रकट  कर  देता  है    जैसे  --- बिच्छू  है ,  वह  डंक  तो  मारेगा  ही  ।
  अब  हमारे  भीतर  यह  विवेक  होना  चाहिए  कि  ऐसे  भिन्न - भिन्न  प्रकृति  के  लोगो  द्वारा  किये  जाने  वाले  व्यवहार  की  हम  कैसे  प्रतिक्रिया  करें  ।
  अन्याय  तो  कभी  सहना  ही  नहीं  चाहिए ,  उसका  प्रतिकार  तो  अवश्य  करना  चाहिए  ,  लेकिन  कैसे  ?
  इसी  के  लिए  विवेक  की  जरुरत  है  कि  ' सांप  भी  मर  जाये  और  लाठी  भी  न  टूटे '
अत्याचारी , अनाचारी  कमजोर  पड़  जाये   और  हम  पर  कोई  आंच  न  आये  ।
   यह  समझ  स्कूल , कॉलेज  की  शिक्षा  से  नहीं  आती   l  यह  तो  जीवन  जीने  की  कला  है   जो  श्रेष्ठ  साहित्य  को  पढने  से ,  महापुरुषों  के  जीवन  प्रसंग    का  अध्ययन - मनन  करने  से   आती  है  । ।  इसके  लिए  जरुरी  है  कि  हमारे  अपने  जीवन  की  दिशा  सही  हो ,  ईमानदारी , सच्चाई , कर्तव्य पालन  आदि  विभिन्न  सद्गुणों  को   अपने  भीतर  एकत्र  करें ,  सन्मार्ग  पर  चलें    । l  इन  सबके  साथ  यदि  श्रद्धा  और  विश्वास  से  गायत्री  मन्त्र  जपें   तो  आप  चमत्कार  अनुभव  करेंगे  कि  कैसे   विभिन्न  समस्याओं  से  आप  बच  निकलते  हैं ,  कैसे  विध्न - बाधाएं  कटती  जाती  हैं   और  सफलता  का  मार्ग  प्रशस्त  होता  जाता  है  ।
   हमारे  पास  साँसे  गिनती  की  हैं ,  इसलिए  तर्क  में  न  उलझें  ।   व्यर्थ  की  बातों  में  समय  व  ऊर्जा   न  गंवाकर  अपनी  सफलता  के  मार्ग  पर  आगे  बढ़ें   । 

No comments:

Post a comment