Friday, 26 August 2016

अशान्ति का कारण है ----- कर्तव्य की चोरी

   आज  मनुष्य  के  जीवन  का  उद्देश्य  केवल  धन  कमाना  रह  गया  है   ।  इसका  ईमानदारी  और  नैतिकता  से  कोई   संबंध  नहीं  है  ।  संसार  की  अधिकांश  समस्याओं   की  जड़  यही  है  की   कर्तव्य  पालन  में  ईमानदारी  नहीं  है  ,  दिखने  में  ऐसा  लगता  है  कि  लोग  काम  कर  रहे  हैं   किन्तु  काम  तो  कागजों  में  निपट  जाता  है ,  वास्तविकता  के  धरातल  पर   कुछ  दिखाई  नहीं  देता   ।  कर्तव्य  की  चोरी  से  व्यक्ति  प्रकृति  का  ऋणी  हो  जाता  है    जिसे  वह  बीमारी,  दुःख , तकलीफ  आदि  विभिन्न  समस्याओं   के  रूप  में  चुकता  है  ।
  सुख - शान्ति  से  जीना  मनुष्य  के  अपने  हाथ  में  है   l  सच्चाई  और  ईमानदारी  के  रास्ते   पर  चलकर   ही  
शांतिपूर्ण  जीवन  जिया  जा  सकता  है   । 

No comments:

Post a comment