Wednesday, 31 August 2016

सकारात्मक सोच और सकारात्मक कार्य जरुरी हैं जीवन में

   अधिकांशत:  यह  देखा  जाता  है  कि  लोग  थोड़े  भी  बीमार  हुए   या  थक  गये  तो  बिस्तर   पकड़  लेते  हैं   इस  तरह   वे  बीमारी  को  और  न्योता  देते  हैं    शारीरिक  कष्ट  के  समय  ,  बहुत  ही  मज़बूरी  वश  बिस्तर  पर  लेटना  चाहिए  ,  जहाँ  तक  संभव  हो  चलते - फिरते  कुछ - न - कुछ  काम  करते  रहना  चाहिए   l  यदि  कभी  ऐसी  नौबत  आ  जाये  कि  बिस्तर  पर  पड़े  रहना  जरुरी  है  तो  उस  समय  भी  श्रेष्ठ  साहित्य  का  अध्ययन - मनन   करना ,  मानसिक  रूप  से  मन्त्र  जप  करना   चाहिए  l   अपने  कष्ट  के  समय  को  रो - खीज  कर  नहीं  गंवाना  चाहिए  ,  प्रयास  करके  कोई  हुनर  सीखें ,  अतिरिक्त  ज्ञान  प्राप्त  करें l   ऐसे  सकारात्मक  कार्य  करने  से   धीरे  - धीरे   स्वास्थ्य   भी  अच्छा  ही  जाता  है   और  सफलता  का  मार्ग  प्रशस्त  होता  है  l 

No comments:

Post a comment