Saturday, 27 August 2016

अध्यात्म पथ पर चलने का अर्थ संसार से भागना नहीं है

सुख  शान्ति  पूर्वक  जीवन  जीने  के  लिए   जीवन  में  अध्यात्म  का  प्रवेश  आवश्यक  है  |
  आध्यात्मिक  होने  का  अर्थ  संसार  से  भागना  नहीं  है  ।   जो  व्यक्ति  आध्यात्मिक  है  वह  अपने  जीवन  को  अधिक  कुशलता  के  साथ  जीता  है  ,  जीवन  के  हर  पल  का  सदुपयोग  करता  है  ।
 पूजा - पाठ ,  कर्मकांड  करने  से  आध्यात्मिक  होने  का  कोई  संबंध  नहीं  है    l  कर्मकांड  करने  वाला  व्यक्ति  अपराधी , भ्रष्टाचारी  , दुर्गुणी  हो  सकता  है    लेकिन  एक सच्चा    आध्यात्मिक    सद्गुण  संपन्न  होता  है   ।  आध्यात्मिक  होना  एक  सतत  प्रक्रिया  है  ,  निरंतर  अपने  दोषों  का  अवलोकन  कर  उन्हें  दूर  करें    और  सद्गुणों  को  ग्रहण  कर ,   सन्मार्ग  पर  चलें  । 

No comments:

Post a comment