Sunday, 28 August 2016

विचारों में परिवर्तन को एक चुनौती के रूप में स्वीकार करें

  मनुष्य  के  संस्कार  प्रबल  होते  हैं  ,  इसलिए  वह  ..अपने  स्वभाव   को  बदलना  ही  नहीं  चाहता    ।
जैसे  व्यवसाय   में    मनुष्य   जोखिम  उठाता  है ,  नई  चुनौतियों  को  स्वीकार  करता  है   उसी  तरह  जीवन  में  भी  विचारों  को  बदलने  की  जोखिम  उठानी  चाहिए    जैसे  -- जिन्हें  नशे  की  लत  है ,  सिगरेट  बहुत  पीते  हैं  ,  तम्बाकू  के  शौकीन  हैं  --- वे  कम  से  कम  एक  महीने  के  लिए  इस  आदत  को  छोड़ने  का  संकल्प  लें  ,   और  फिर  देखें  कि   इन  आदतों  को  छोड़ने  का  उनके  स्वास्थ्य  पर ,  कार्य  क्षेत्र  पर ,  पारिवारिक  जीवन  पर  और  उनकी  शक्ल - सूरत  पर  --- क्या  प्रभाव  पड़ता  है   l
  अपने  जीवन  में  एक  महीने  यह  प्रयोग  करें  और  फिर  स्वयं  निर्णय  लें  की  इन  आदतों  को  बढ़ाना  अच्छा  है  या   इन  आदतों  को  हमेशा  के  लिए  छोड़  देना  चाहिए  ।   ।  

No comments:

Post a comment