Thursday, 29 June 2017

जियो और जीने दो

 यदि  व्यक्ति  स्वयं  शान्ति  से  रहे  और  दूसरों  को  भी  चैन  से  जीने  दे  तो  सब  तरफ  शांति  रहे  लेकिन  आज  ऐसे  लोगों  की  अधिकता है  जो  दूसरों  को  चैन  से  जीने  नहीं  देते  l  जिनका  चैन  छीना  जाता  है   इसके  पीछे  प्रमुख  वजह -- अत्याचारी  का  अहंकार  है  l  अहंकारी  सोचता  है  की  वो  बिलकुल  सही  है ,  ऐसे  व्यक्ति  परिवार , समाज , संस्था  सबको  अपने  ढंग  से  चलाना  चाहते  हैं  जिससे  सब  दब  कर  रहें  और  उनके  स्वार्थ  व  अहंकार  की  तुष्टि  होती  रहे  l  भौतिकता  में  वृद्धि  के  कारण  अत्याचार  का  तरीका  भी  बदल  गया  है  l  अब  लोग  दूसरों  की  हंसी  उड़ा  कर , उन्हें  नीचा दिखाकर , षडयंत्र  कर  उन्हें  किसी  जाल  में  फंसाकर ब्लैकमेल  करके  ,  कमजोर  का  हक  छीनकर  अपनी  शक्ति  को  दिखाते  हैं  l  ऐसे  मानसिक  उत्पीड़न  की  प्रतिक्रिया  बड़ी  भयानक  होती  है  l  बदले  की  आग  जब  ह्रदय  में  पैदा  होती  है  तो  वह  अच्छा - बुरा नहीं  देखती   सबको  जला  देती  है  l   यह  संसार  बहुत  बड़ा  है   इसमें  ऐसे  एक -दो  व्यक्ति  ही  होंगे  जो  अत्याचार और  उत्पीड़न  की  प्रतिक्रिया स्वरुप  महामानव  बन  जाएँ  l
     जो  गरीब  है , शोषित है , उत्पीड़ित  है   , वह  तो  वैसे  ही  परेशान  है  ,  समाज  में  शांति  के  लिए  जरुरी  है  जिनके  पास   धन , पद , वैभव  की  शक्ति  है   वे  सुधरें  और  अपनी  इस  शक्ति  का,  विभूति  का  उपयोग  जन कल्याण के  लिए  करें ,  लोगों  का  शोषण  करने   के   स्थान  पर  उन्हें  आत्मनिर्भर  बना  कर  उन्हें  भी   सुख  शांति  से  जीने  दें     

No comments:

Post a comment