Friday, 2 September 2016

सुख - शान्ति से जीने का एकमात्र रास्ता ------- सत्कर्म

     आज  के  इस  वैज्ञानिक  युग  में  भी  लोगों  के  मन  में  कर्मकांड  की  जड़ें  इतनी  गहरी  घुसी  हैं  कि  वे            सोचते  हैं  कि  कर्मकांड , बाह्य  आडम्बर  से  ही  ईश्वर  प्रसन्न  होते  है   ।   इस  सोच  को  बदलना  बहुत  कठिन  और  असंभव  है  ।   लेकिन  इस  सोच  को  मजबूत  आधार  देकर   लोगों  की    यह    कल्पना  कि ''कर्मकांड  से  ईश्वर   प्रसन्न  होते  हैं '    सत्य  सिद्ध  हो  सकती  है  ।  यदि  व्यक्ति  यह  नियम  बना  ले   कि  पूजा - पाठ ,  प्रार्थना  के  बाद  नियमित  रूप  से   गरीबों  को ,  पशु - पक्षियों  को ,  जरुरतमंदों  को  कुछ  न  कुछ  दान  अवश्य  करेगा  ।  इस  दान  में  कोई  दिखावा  नहीं ,  अहंकार  नहीं   ।
  इस  एक  सद्गुण  से  ही   अनेकों  लाभ  होंगे   ,  ,  धैर्य  और  विश्वास  चाहिए   ।  

No comments:

Post a comment