Wednesday, 26 October 2016

समाज में अशान्ति का कारण शोषण करने की मनोवृति है

   राजतन्त्र  और  सामन्तवाद  यद्दपि  समाप्त  हो  गया  लेकिन   लोगों  के  ह्रदय  में  अभी  भी  जिन्दा  है  |
  अधिकांश  लोग  अपना  काम  स्वयं  न  करके   उसे  अपने    ही  साथ  के  किसी  न  किसी  से  करवाना  चाहता  है  ।  यह  बात   पारिवारिक  ,  सामाजिक  , आदि  सभी  क्षेत्रों  में  है   ।  कुछ  लोग  सर्वेसर्वा  बन  जाते  हैं  और   अन्य  लोगों    पर  काम  का  बोझ   लादकर   उनका  शोषण  करते  हैं   ।
       केवल  चेहरे  बदल  गए  ।   जब  देश  पराधीन  था  तब    जिन  बातों  के  लिए    विदेशी  लोगों  को  दोष  दिया  जाता  था  ,   आज   वही   सब  देश  के  लोग  कर  रहे  हैं  ।   मानसिकता  नहीं  बदली  ।
  पहले  एक  लक्ष्य  था  --- देश  को  आजाद  कराना  है  ,  विदेशियों  के  शोषण  से  मुक्त  होना  है  लेकिन  अब  ऐसे  लोगों  के  बीच  रहकर  जीवन  का  सफर  तय  करना  है  जो  दूसरों  का  शोषण  करते  हैं ,  हक  छीनते  हैं बिना  वजह  सिर्फ  अपने  मनोरंजन  के  लिए  दूसरों  को  सताते  हैं  --- यह  स्थिति  और  भी  कष्टदायी  है  ।  इसी  से  व्यापक  अशान्ति   ।
  

No comments:

Post a comment