Saturday, 29 October 2016

लोग लक्ष्मी की नहीं धन की पूजा करते हैं इसीलिए संसार में आशांति है

  '  हम  सब एक  माला  के  मोती  हैं ,  इस  माला  के  आधे  से  अधिक  फूल  पददलित , कुम्हलाये  हुए  और  प्रदूषित  हों  तो  वह  माला  व्यर्थ  है  ।  '
  इन  सबके  पीछे  वास्तविक  कारण  है --- धन  का  लालच  और  स्वार्थ  ।    लोग  वास्तव  में  व्यक्ति  का  चाहे  वह  पुरुष  हो  या  नारी   उसका   सम्मान  नहीं  करते ,  उस   के  माध्यम  से  वे  कितना  धन  कमा  सकते  हैं ,  अपना  प्रमोशन  करा  सकते  हैं , अपनी  मनमानी  कर  सकते  हैं  ,  उस  सम्मान  के  पीछे  यही  उद्देश्य  होता  है  ।  
     समाज  में  धन  को  इतना   महत्व    देने  के  कारण  ही    लोगों  ने  पर्यावरण  को  प्रदूषित  कर  दिया ,  लोगों  को  नशे  का  आदी  बना  दिया  , ,  कला  को  ऐसा  बना  दिया  जो  लोगों  की  कुत्सित  भावना  को  और  भड़का   दे  और  नारी  जो  युगों  से  शोषित  और  उत्पीड़ित  है  ,  उसे  भी  प्रदर्शन  की  आड़  में  अपमानित  कर  दिया  ।  
  कर्मकाण्ड  भी  जरुरी  है लेकिन  मानसिकता  प्रदूषित  है,  भावनाओं  की  पवित्रता  नहीं  है  तो  सब  कर्मकाण्ड  व्यर्थ  हैं  ।
  ऐसा  नहीं  है  कि  संसार  में  सब  भ्रष्ट  हैं ,  अनेक  अच्छे  लोग  हैं ,  पुण्यात्मा  हैं   जिनके  पुण्यों  से  यह  धरती  टिकी  है  लेकिन  अंधकार  बहुत  सघन  है  उसे  मिटाने  के  लिए  दृढ  संकल्प  और  शक्ति  के  साथ  सद्बुद्धि  की  आवश्यकता  है  ।  ऐसे  पवित्र अवसर  पर  हम   ईश्वर  से  धन  नहीं  सद्बुद्धि  मांगे   ।  केवल  सद्बुद्धि  होने  से  ही  संसार  की  सभी  समस्याओं  का  हल  हो  जाता  है  चाहे  वे  पारिवारिक  हों  सामाजिक  हों  या  राजनैतिक  हों   ।  उन्हें  हल  करने  के  लिए  किसी  झगड़े,  दंगे  और  युद्ध  की  आवश्यकता  नहीं  है  ।
       

No comments:

Post a comment