Friday, 28 October 2016

संसार की आधी से अधिक जनसँख्या पीड़ित व शोषित है तो शान्ति कैसे होगी

    पीड़ित  और  शोषित  में  दो  वर्ग  हैं ----- निर्धन वर्ग  और   नारी  ।  संसार  का  कोई  भी  देश  हो ,  कोई  जाति ,   कोई  धर्म   हो ,  परिवार  हो  या  कार्यालय   सब  अपने - अपने  तरीके  से  इनका  शोषण  व  उत्पीड़न  करते  हैं   और  यह  उत्पीड़न  युगों  से  हो  रहा  है   ।
  आज  हम  वैज्ञानिक  युग  में  जी  रहें  हैं ,  महिलाओं  को  आगे  बढ़ने  का ,  आत्म  निर्भर  होने  का  अधिकार  है   लेकिन  पुरुषों  की   मानसिकता  नहीं  बदली   l  अहंकार  और  नारी  को  आगे  बढ़ते  देख   ईर्ष्या  का  भाव  ही  महिलाओं  के  उत्पीड़न  का  बड़ा  कारण  है  ।  जिसे  समाज  में  अपहरण , बलात्कार , हत्या ,   बालिका  भ्रूण  हत्या , दहेज़  उत्पीड़न   आदि  विभिन्न  रूपों  में  देखा  जा  सकता  है  l
        ऐसे  अपराधों  में  व्यक्ति  की  विकृत  मानसिकता  होती  है  ।   निरन्तर  मांसाहार  करने  से  मनुष्य  में  पशु  प्रवृति  बढ्ती  जाती  है  ,  लेकिन  इसके   साथ  शराब ,  तम्बाकू  आदि  नशीले  पदार्थों  का  सेवन  करने  से  बुद्धि  स्थिर  नहीं  रहती  ,  और  शरीर  में  इतनी   शक्ति  नहीं  रहती   कि  अपने  जैसे  लोगों  से  भी  लड़  सके  ।   इसलिए  उसका  अहंकार ,  उसकी  अपनी  समस्याएं  विकराल  रूप  में  ,  महिलाओं  के  प्रति   अपराध  और  पारिवारिक  विघटन  के  रूप  में   दिखाई  देती  हैं  ।   हर  क्रिया  की  प्रतिक्रिया  होती  है  ,   इस  तरह  के   व्यवहार  से  पुरुषों  को  भी  वह  सम्मान ,  वह  इज्जत  नहीं  मिल  पाती  जो  उनके  आत्मविश्वास  को  बढ़ा  दे  ।
        संसार  में  शान्ति  चाहिए   तो  लोगों  को  अपनी  जीवन  शैली  को  बदलना  होगा  ।   महिलाओं  का   सम्मान  तो  बहुत  दूर  की  बात  है  ,  केवल  उत्पीड़ित  ही  न  करें  ,  उनके  अस्तित्व  को  स्वीकार  करें   तभी  संसार  में  शान्ति  होगी   ।   लक्ष्मी - पूजा , नवरात्रि  पूजन   आदि  का  पुण्य  तो  तभी  मिलेगा  जब  परिवार  में   नारी  और  पुरुष  एक  दूसरे  के   महत्व   को   स्वीकार  करेंगे  ।  पारिवारिक  शान्ति  से  ही  समाज  में  शान्ति  होगी  ।  

No comments:

Post a Comment