Sunday, 23 October 2016

जीवन में सुख - शान्ति के लिए भावनाओं की पवित्रता जरुरी है

      संसार  में  अनेक  लोग  पुण्य  के  कार्य  करते  हैं , सेवा - परोपकार  करते  हैं  लेकिन  यदि  वे  उस  कार्य  को  दिखावे  के  लिए  या  बोझ  समझकर  करेंगे  तो  उसका  उतना  पुण्य - प्रतिफल  नहीं  मिलेगा  ।   अर्थशास्त्र  का  एक  सिद्धान्त  है  कि  यदि  अर्थव्यवस्था  में  मंदी  है  उस    समय  यदि  सरकार   सार्वजनिक  निर्माण  कार्यों  पर   थोड़ा  भी  विनियोग  करेगी   तो  रोजगार  में  गुणक  गुना  वृद्धि  होगी  ।
   यही  सिद्धान्त  जीवन  पर  भी  लागू  होता  है  ---- यदि  जीवन  में  रिक्तता  है ,  निराशा है ,  डिप्रेशन  है    तो  इसे  दूर  करने  के  लिए   अपना  थोड़ा  सा  धन , थोड़ा  समय  बड़ी  खुशी  के  साथ   दूसरों  को  ,  किसी  जरूरतमंद  को  खुश  करने  के  लिए  उसके  कष्टों  पर  मलहम  लगाने  के  लिए  खर्च  कीजिये  ,  उसका  परिणाम  होगा  आपके  जीवन  में  खुशियों  में  ,  सुख  में  गुणक  गुना  वृद्धि  होगी  ।
       त्योहारों  पर  धन संपन्न   लोग ,  कुछ  कम्पनियां  अपने  मजदूरों  को ,  कर्मचारियों  को  बोनस  देते  हैं  ,  सामान्य  परिवारों  के  लोग  भी  अपने  घरों  में  काम  करने  वाले  को  उपहार ,  मजदूरी  के  अतिरिक्त    रूपये  आदि   देते   हैं  ।  इस  कार्य  को  यदि  बोझ  समझ  कर  करेंगे  ,  उपेक्षा  से  देंगे   तो  जेब  का  पैसा  भी  खर्च  हुआ  और  पुण्य  भी  नहीं  मिला   ।
  यदि  किसी  को  कुछ  दो    तो  यह  भावना  रखो  कि  इस  धरती  पर  जीने  का ,  खुशियाँ  मनाने  का  हक  सबको  है   ।   ईश्वर  तो  कीट - पतंगे   सभी  का  पेट  भर  रहें  हैं  ,  हमने  तो  केवल  अपनी  खुशियों  को  बढ़ाने  के  लिए  छोटा  सा  परोपकार  किया   । 

No comments:

Post a Comment