Thursday, 20 October 2016

वैज्ञानिक प्रगति का लाभ तभी है जब नशे और मांसाहार पर प्रतिबन्ध हो

आज  हम  देखते  हैं  कि  सुरक्षा  के  साधनों ,  संचार  के  साधन  ,  मनुष्य  के  लिए  विभिन्न  सुख - सुविधा  के  साधन  इन  सभी  में  बहुत  प्रगति  हुई  है  लेकिन  जहाँ  तक  सुख  शान्ति  का  सवाल  है  ,    शान्ति  तो  इन  साधनों  के  सदुपयोग  से  ही  संभव  है    और  इन  सबका  सदुपयोग  तभी  होगा  जब  मनुष्य  की  बुद्धि  स्थिर  होगी     ।  विभिन्न  तरह  के  नशे  करने  से  और  मांसाहार  करने  से  मनुष्य  की  बुद्धि  स्थिर  नहीं  रहती  और  अस्थिर  बुद्धि  से  किया  गया  कोई  भी  काम   समाज  का  हित  नहीं  करता   ।
   मांसाहार  करने  से  मनुष्य  की  पाशविक  प्रवृतियां  बढ़  जाती  हैं  उसके  लिए  किसी  की  हत्या  करना  बहुत  सरल  काम  हो  जाता  है  ।  संसार  में  शान्ति  के  लिए  जरुरी  है    कि   मन  को   अस्थिर  करने  वाले  साधनों  कर   रोक    लगायी  जाये   । 

No comments:

Post a comment