Wednesday, 12 October 2016

आज की सबसे बड़ी जरुरत ---- जीवन जीने की कला

        लोग  बड़ी  जल्दी  समस्याओं  से  घबरा  कर  निराश  हो  जाते  हैं ,   कभी - कभी  निराशा  इतनी  बढ़  जाती  है  कि  आत्महत्या  करने  पर  उतारू  हो  जाते  हैं  ।   इसके  अनेक  कारण  हो  सकते  हैं    लेकिन   हमें  समाधान  खोजना  होगा  कि  व्यक्ति  डरपोक  न  बने ,  समस्याओं  से  भागे  नहीं  ।
  निराशा  से  निपटने  के  लिए  जरुरी  है  धैर्य  और   अज्ञात  शक्ति  पर ---  ईश्वर   पर  अटूट  विश्वास  ।
       ' हानि - लाभ ,  सुख - दुःख ,  यश - अपयश ,  उत्थान - पतन ,  प्रेम - धोखा ---- ये  सब  जिन्दगी  से  जुड़ी  हुई  बाते  हैं  ।  आत्महत्या  के  बाद  जब  नया  जन्म  होगा    तो   फिर  से  यही  सब  होगा  ,   इसलिए  मरने  से  कोई  फायदा  ही  नहीं  हुआ  ।
   इसलिए  समस्याओं  का  सकारात्मक  तरीके  से  डटकर   मुकाबला  करो  ।  प्रकृति  में  ऐसा  कभी  नहीं  हुआ  कि  रात  के  बाद  ,  सुबह  न  हुई  हो ।  सुबह  जरुर  होगी  ।
    वास्तव  में  प्रकृति  की  शक्तियां  चाहती  हैं कि  मनुष्य  अपनी  आंतरिक  शक्तियों  को  पहचाने ,  और  ऊँचा  उठे  ।  ईश्वर  ने  यह  संसार  बनाया ,  वे  मनुष्य  का  जीवन  सुखमय  बनाना  चाहते  हैं   ।
भगवान  श्री  कृष्ण  ने  अर्जुन  को  यही  समझाया  कि  संसार  से  भागो  मत  ,  कर्तव्य  पालन  करो  ।
  ' गीता '  का  ज्ञान  हमें  जीवन  जीने  की  कला  सिखाता  है    । 

No comments:

Post a comment