Wednesday, 19 October 2016

स्वयं का सुधार जरुरी है

 अपने  जीवन  को  सुखमय  बनाना  प्रत्येक  व्यक्ति  के  अपने  हाथ  में  है   ।   सुख  शान्तिपूर्ण  जीवन  जीने  की  सच्ची  चाहत  होनी  चाहिए  ।   पारिवारिक  संबंध  अच्छे  हों  , उनमे  दिखावा  न  हो  ।  बच्चे   ,  माता - पिता  का  ही  प्रतिरूप  होते  हैं    इसलिए  दो  काम  एक  साथ  होने  चाहिए  ---- बच्चों  को  अच्छे  संस्कार   और  नैतिक  मूल्यों  की  शिक्षा  दी  जाये   और  सबसे  जरुरी  है  की  उनके  माता - पिता  और  परिवार  में  जो  बड़ी  उम्र  के  सदस्य  हैं  उनके  जीवन  की  दिशा  सही  हो  ।   ये  लोग  जब  भ्रष्टाचार  से  दूर ,  सच्चाई  और  ईमानदारी  से  रहेंगे ,  चरित्र  अच्छा  होगा   उसी  का  अनुकरण  नई  पीढ़ी  करेगी  ।
  एक  वैचारिक  क्रांति  की  जरुरत   है   ।    लोग  प्रकृति  के  दण्ड  विधान  को  समझें   कि  गलत  काम  करने  से  ,  अपराध  करने  से  --- कैसे  उस  पाप  की  छाया  स्वयं  पर  और  बच्चों  पर  पड़ती  है  ,  कुछ  ऐसा  घटित  हो  जाता  है  कि  सब  कुछ  होते  हुए  भी  जीवन  में  सूनापन   होता  है ,  मानसिक  शान्ति  नहीं  रहती  ---- यह  समझ  जब  आएगी  तभी  व्यक्ति  सुधरेगा   ।  

No comments:

Post a comment