Sunday, 30 October 2016

मानसिक प्रदूषण कम करना जरुरी है

   जब  लोगों  के  विचार  अच्छे  होंगे ,  मन  बेलगाम  नहीं  होगा ,  उस   पर    थोड़ा - बहुत  नियंत्रण  होगा   तभी   संसार    में  शान्ति  होगी   ।  आज  के  समय  में  मन  को   स्थिर  व  शांत  रखने  वाले  साधन  कम
  हैं ।    सामान्य  जनता  फिल्मों  का  अनुसरण  करती  है  ।  हीरो , हिरोइन  के  वस्त्र   डिजाइन   आदि  से  ही  सामान्य  जनता  में  फैशन  आता  है   ।   फिल्मों  में  प्रदर्शन  और  अश्लीलता  की  वजह  से  ही  सबसे  ज्यादा  मानसिक  प्रदूषण  होता  है  ।
   संसार  में  अति  प्राचीन  काल  से  ही  पुरुष  प्रधानता  है ,  पुरुष  को  श्रेष्ठ  समझा  जाता  है ,  यही  स्थिति  आज  भी  है  ।    चाहे  आज  हम  आधुनिक  समाज  में  हैं  लेकिन  नारी  पर  अत्याचार  कम  नहीं  हुए ,  बढ़  ही  गये  हैं  ।   पुरुष  ने   हमेशा  ही  नारी  को  अपने  से  कम  साबित  किया  है  ।   यदि  फिल्मों  में  अंग  प्रदर्शन   सम्मानजनक  और  श्रेष्ठता  की  बात  होती   तो  पुरुष  समाज  कभी  भी  इसमें  पीछे  नहीं  रहता   लेकिन  नारी  को  इस  कार्य  के  लिए  आगे  रखना  --- उसके  माध्यम  से  धन  कमाना  और  फिल्मों  को  हिट    करना  है   ।
  जागरूकता    जरुरी  है   ,  तभी  परिवार  में , समाज  में   शान्ति  होगी   । 

No comments:

Post a comment