Thursday, 13 April 2017

अशांति का कारण है ----- शोषण की प्रवृति

    अपने  से  कमजोर  का  शोषण  करना     मनुष्य  का   स्वभाव  है  ,  लेकिन  जब  स्वार्थ  बढ़  जाता  है  ,  दंड  का  कोई  भय  नहीं  होता    तब  यह  शोषण  बड़े  पैमाने  पर  होता  है   और  इसका  सबसे  ज्यादा  शिकार  होती  है  युवा  पीढ़ी  l     युवा  वर्ग  में  ऊर्जा  बहुत  होती  है  ,   धन  और  पद  से  संपन्न  लोग   युवा  पीढ़ी  की  इस  ऊर्जा  का  उपयोग  अपने  स्वार्थ  के  लिए  करते  हैं  ,  उनके  जीवन  को  सही  दिशा  नहीं  देते   |   ये  युवा  वास्तव  में  अपने  आकाओं  के ' गुलाम '  होते  हैं   ,   धन  और  सुविधाओं  के  लालच  में   ये  लोग  उनके  इशारे  पर   कुछ  भी  कर  सकते   |   यही  इनका  रोजगार  है  |  समाज  में  शान्ति  के  लिए  जरुरी  है  कि   युवा  पीढ़ी  को  सुधारने  से  पहले  ,  उनके  जीवन  को  गलत  दिशा  देने  वाले  सुधर  जाएँ   |  हमारे  ऋषियों  ने  आश्रम  व्यवस्था  बनायीं  थी  ,  कि  एक  निश्चित  आयु  सीमा  के  बाद  लोग  समाज  को  शिक्षण  देने  का ,  समाज निर्माण  का  कार्य  करें   लेकिन  आज  स्थिति  विपरीत  हो  गई  है  ,  इस  आयु  तक  पहुँचते - पहुँचते  व्यक्ति  भ्रष्टाचार   और   गलत  कार्यों  में  पक्का  हो  जाता  है  l   और  स्वयं  को  अमर  समझकर   अपनी  ही  स्वार्थपूर्ति  में  लगे  रहते  हैं   | 

No comments:

Post a comment