Wednesday, 5 April 2017

सकारात्मक कार्यों के आभाव से अशांति उत्पन्न होती है

समाज  में  अशान्ति  की   एक  बहुत  बड़ी  वजह  है  कि  लोग  स्वयं  को  किसी  सकारात्मक  कार्य  में  व्यस्त  नहीं  रखते  ,  श्रेष्ठ  साहित्य  पढने  में  उनकी  रूचि  नहीं  है  ।    ऐसा  वर्ग  ही   नकारात्मक  गतिविधियों  में  लगा  रहता  है  जिससे  तनाव  उत्पन्न  होता  है  ।  इस  वर्ग  के  लोग  गली - मोहल्लों  में ,  विभिन्न   संस्थाओं  में  भी  होते  हैं   जो  नेताओं  की ,  अधिकारियों  की  चापलूसी  कर  स्वयं  को  बहुत  शक्तिशाली  समझने  लगते  हैं  ।    एक  ज्ञानवान  व्यक्ति ,  प्रतिष्ठित  व्यक्ति  कोई  बात  कहे  तो  अधिकांश  लोग  उसकी  बात  स्वीकार  कर  लेते  हैं    लेकिन   जब  ऐसे  लोग   जिनमे  कोई  ज्ञान  नहीं  है ,  केवल  अहंकार  है  और  चापलूसी  से  अर्जित  शक्ति  है  ,  उनकी   हुकूमत  को  जब  कोई  सहन  नहीं  करता  है  तो  अशांति  उत्पन्न  होती  है   ।   ऐसे  लोगों  की  गतिविधियों  पर  नियंत्रण   जरुरी  है   । 

No comments:

Post a comment