Friday, 14 April 2017

अशान्ति का कारण है ----- युवा वर्ग दिशाहीन है

     हम  सब  एक  माला  के  मोती  हैं  ,  कोई  एक   फूल  मुरझा  जाये    तो  वह  माला  भी  धीरे - धीरे  मुरझाने  लगती  है    l  आज  स्थिति  ये  है  कि  ऐसे  लोग  मिलने  कठिन  हैं  जो    सकारात्मक  कार्यों  में   लगे  हों  l   जो  लोग  अच्छा  कमाने  लगते  हैं  वे   अपना   शेष  समय  नशा ,  पार्टी ,  आदि  बुरी  आदतों  में  गंवाते  हैं  |
  जिन  लोगों  के  पास  कोई  रोजगार  नहीं  है  ,  वे  अपना  समय  नारेबाजी , जुलूस,  बड़े  लोगों  की  जी - हुजूरी   जैसे  नकारात्मक  कार्यों  में  अपनी  ऊर्जा  और  अपनी  जिन्दगी  के  अमूल्य  दिन  गंवाते  हैं   |  
    कोई  भी  परिवार हो ,  समाज  या  राष्ट्र  हो  --  उसकी  तरक्की  और  खुशहाली  तभी  संभव  है  जब  उसके  सदस्यों  की    ऊर्जा    सकारात्मक  कार्यों  में  लगी  हो   l  

No comments:

Post a comment