Friday, 21 April 2017

शक्ति के सदुपयोग से ही शान्ति संभव है

      यदि  कोई  व्यक्ति  सद्गुण  संपन्न  है ,  उसमे  दया , करुणा,  संवेदना , सत्य , न्याय , कर्तव्य पालन  , ईमानदारी   आदि  सद्गुण  हैं ,  वही    व्यक्ति  अपनी  शक्ति  का  सदुपयोग  कर  सकता  है  l     लेकिन  यदि  राजनीतिक,  सामाजिक , आर्थिक ,  प्रशासनिक   आदि  किसी  भी  क्षेत्र  में  शक्ति  किसी  ऐसे  व्यक्ति  के  हाथ  में  आ  गई   जो  अपराधी  है ,   अहंकारी  है  जिसमे  छल - कपट , बेईमानी  आदि  दुर्गुण  है   तो  ऐसे  व्यक्ति  से  शक्ति  के  सदुपयोग  की  कल्पना  करना  ही  व्यर्थ  है   |     ऐसे  व्यक्ति  अपने  परिवार को ,  समाज  को  और  धीरे -धीरे  पूरे  राष्ट्र  को   दुष्प्रवृती  के  मार्ग  पर  धकेल  देते  हैं  l   बुराई  का  मार्ग  सरल  है   इसलिए  ऐसे  लोगों  का  संगठन   देश - विदेश  सब  जगह  संक्रामक  रोग  की  तरह  फैलता  ही  जाता  है  |   ऐसे  में  किससे  शिकायत  करें ,  कौन  न्याय  करे ,  कौन  किसे  दंड  दे  ?  -----  ऐसी  परिस्थिति  में  ही  प्राकृतिक  प्रकोप ,  आपदाएं ,  युद्ध  आदि  स्थिति  उत्पन्न  होती  हैं    l
  समाज  में  जागरूकता  जरुरी  है    ,  लोग  समझें  कि  उनका  सच्चा  हित  किसमे  है   |
    

No comments:

Post a comment