Tuesday, 25 April 2017

अशान्ति का कारण है ---- धन और पद से समर्थ लोगों का अहंकार

  अहंकार   से  ग्रस्त  लोग  किसी  एक  देश या  धरती  से  बंधे  नहीं  है  वरन  सारे  संसार  में  इस  दुर्गुण  से  ग्रस्त  व्यक्ति  हैं  इसीलिए  सारे  संसार  में  लूटपाट , हत्या   आदि  अपराधिक  घटनाएँ  बढ़  रही  हैं  l   यदि  लोगों  की  रोटी , कपड़ा, मकान  जैसी  अनिवार्य  जरुरत सम्मान  के  साथ  पूरी  हो  जाएँ  और  रोजगार  से  उसकी  ऊर्जा  का  सदुपयोग  हो  जाये  तो  एक  सामान्य  व्यक्ति  अपराधिक  गतिविधियों  में  संलग्न  नहीं  होता  l    लेकिन  जब   धन , पद और  जातिगत  अहंकार  से  ग्रस्त  व्यक्ति  गरीबों  का  शोषण  करते  हैं ,  उनका  खून  चूसकर  अपनी  सात  पीढ़ियों  के  लिए  संपत्ति  जोड़ते  हैं  और  पग - पग पर  उन्हें  तिरस्कृत  करते  हैं  ,  तब  धीरे - धीरे  यही  शोषित  वर्ग     संगठित  होकर  या  किसी  भी  तरीके  से   समाज  से  बदला  लेता  है  |   शोषण  और  तिरस्कार  की  प्रतिक्रिया स्वरुप  ऐसे  अँगुलियों  पर  गिने  जाने  वाले  बहुत  कम  लोग  होते  हैं  जो  संघर्ष  कर  महानता  के  स्तर  पर  पहुँच  जाएँ   l   गरीबी  और    अपमान   की  आग  में  झुलसते  व्यक्ति  में  बदले  की  भावना  आ  जाती  है  l  यह  स्थिति  सम्पूर्ण  समाज  के  लिए  खतरा  है   l
   इस  धरती  पर  जीने  का  हक  सबको  है  ,  मनुष्य , जीव जंतु , पेड़ पौधे  निर्जीव , सजीव  सबको  धरती  पर रहने  का  हक  है  |  ' जियो  और  जीने  दो '  से  ही  शान्ति  होगी  l  

No comments:

Post a comment