Sunday, 4 June 2017

परिवार और समाज में अशान्ति का कारण ------ धन का लालच है

 आज  धन  का  लालच  लोगों  पर  इस  कदर  हावी  है  कि  रिश्तों  का  कोई  महत्व  नहीं  रहा  l  आज  से   बहुत   समय  पहले  तक   वर  पक्ष  के  लोग  विवाह  के  समय  जितना  दहेज  मिल  गया ,  उससे  संतुष्ट  हो  जाते  थे   और  रिश्तों  को  निभाते  थे   l   तृष्णा,  लालच  एक  बीमारी  है   इसका  सम्बन्ध  किसी  जाति  या  धर्म  से  नहीं   ,  यह  तो  मन  की  कमजोरी  है  l  लोभ ,  कामना ,  वासना  से  पीड़ित  व्यक्ति  एक  बार  के  दहेज  से  संतुष्ट  नहीं  होता  l  वह  बार - बार  दहेज  चाहता  है   l  ऐसी  स्थिति  में   कोई  धन  कमाने  के  लिए  वैध - अवैध  तरीके  अपनाता  है    तो   कोई  दुबारा  दहेज  पाने  के  के  लिए   निर्दयी  हो  जाता  है  l  यदि  समाज  में  ऐसी  जागरूकता  आ  जाये   कि  यदि  किसी  विवाहिता  ने  आत्महत्या  की  है  या   किसी  की  हत्या  की  गई  है   तो  उस  व्यक्ति   का  दुबारा  विवाह  होना   असंभव  हो  जाये ,  उसे  समाज  स्वीकार  न  करे  |     पुरुष  और  नारी  से  मिलकर  ही  यह  समाज  बना  है   l   यदि  नारी  जागरूक  हो  जाये ,  उसका  आत्मिक  बल  जाग्रत  हो  जाये    तो  नारी  पर  होने  वाले  अत्याचार  समाप्त  हो  जाएँ  l 

No comments:

Post a comment