Sunday, 11 June 2017

अशान्ति इसलिए है कि लोग ईश्वर का नाम तो लेते हैं लेकिन उनके बताये मार्ग पर नहीं चलते

 संसार  में  विभिन्न  धर्म  हैं ,  ईश्वर  के  अनेक  रूप  हैं  l  लोग  अपने - अपने  तरीके  से  ईश्वर  का  नाम  लेते  हैं   लेकिन  उनके  बताये  मार्ग  पर   नहीं  चलते  l   धर्म  ग्रंथों  में   बताये  गए  श्रेष्ठ  मार्ग   को ,    सद्गुणों   को  नहीं  अपनाते   इसलिए  स्वयं  अशांत  रहकर   दूसरों  को  भी  अशांत  करते  हैं  l  यदि  मनुष्य  अपने  अहंकार  को  छोड़  दे  तो    ईश्वर  के  नाम  में  इतनी  शक्ति   है  जो  युद्ध  की  आग  को  भी  शांत  कर  देती  है   l   एक   प्राचीन  कथा  है  जो  बड़े - बुजुर्ग  सुनाया  करते  थे ----
         एक  राजा   बड़ा  अहंकारी  था  ,  उसमे  अनेक  सद्गुण  थे   लेकिन  वे  सब  अहंकार  से  ढक  गए  थे  l   एक  बार  किसी  अन्य  राजा  से  उसका  विवाद  हो  गया   और  युद्ध  की  स्थिति  उत्पन्न  हो  गई   l  वह  राजा   भगवान्   श्री  राम  का  अनन्य  भक्त  था  ,,  उसे  उनकी  प्रत्यक्ष  कृपा  प्राप्त  थी  l    युद्ध  शुरू  होने  पर  उस  अहंकारी   राजा  का  किसी  ने  साथ  न  दिया   क्योंकि  सब  जानते  थे  कि  वह  दूसरा  राजा  परम  भक्त  और  प्रजापालक  है   l
  जब  अहंकारी  राजा  ने  अपनी  मृत्यु  को  निकट  देखा  तो  घबराया  l  उसके  एक  वृद्ध  मंत्री  ने  सलाह  दी  कि  तुम  श्री  हनुमानजी  की  शरण  में  जाओ  ,  केवल  वे  ही  तुम्हे  बचा  सकते  हैं  और  कोई  नहीं  l   वह  राजा   अपना  धन - वैभव ,  घोड़े - रथ  सब  छोड़ कर  पैदल  ही  भागता - दौड़ता   हनुमानजी   के  चरणों  में  गिर  पड़ा  ,  बोला   --- उस  भक्त  राजा  के  पास  भगवन  श्री  राम  की  दी  हुई  अमोघ  शक्ति  है  उससे  मेरी  रक्षा  करो   l  हनुमानजी  ने  उसे  शरण  दी  और  कहा - अहंकार  छोड़ो,  जैसा  मैं  कहूँ  वैसा  करो  l  उन्हें  तुम  अस्त्र -शस्त्र  से  नहीं  जीत  सकते  l
  युद्ध  के  मैदान  में  दोनों  सेनाएं  थीं  --- एक  ओर  सद्गुण  संपन्न , प्रजापालक  राजा  जिसे  भगवान्  राम  का  संरक्षण  था   और  दूसरी  और   वह  राजा - जो  अहंकार  छोड़ने  का  संकल्प  ले  चुका  था  हनुमानजी  की  शरण  में  था  l  बड़ा  अदभुत  द्रश्य  था  l    श्री  हनुमानजी  ने  उसे  तीन  मन्त्र  बताये   उनके  जपने  से  बड़ी  से  बड़ी  शक्ति  से  भी   कोई  अहित  नहीं  होगा   ---- ' सीता -राम ,  सीता - राम '
         '  श्री राम   जय राम ,   जय - जय  राम  '  श्री राम  जय राम , जय - जय राम '
इन  दोनों  मन्त्रों  के  जपने  से   किसी  शक्ति बाण   ने  उसका  अहित  नहीं  किया ,  नमन  कर  वापस  लौट   गईं l   तो  प्रतिपक्षी  राजा  को  बड़ी  हैरानी  हुई   l  अब  उसने  सबसे  शक्ति शाली  बाण  चलाया  ,  प्रलय  की  सी  स्थिति  उत्पन्न  हो  गई  l  तब  हनुमानजी  ने  उससे  कहा -- सन्मार्ग  पर  चलने  का ,  अपनी  शक्ति  का  लोक - हित  में  उपयोग  करने  का  संकल्प  लो  ,  फिर  सच्चे  मन  से  ईश्वर  का  ध्यान  कर   जप करो                 ' रघुपति  राघव  राजा  राम , पतित  पावन  सीता राम  '  
वह  शक्ति  भी  शांत  हो  गई  और  युद्ध  समाप्त  हो  गया  l    कथा  का  सार  यही  है   कि  हम  ईश्वर  का  नाम  लेने   के  साथ   सन्मार्ग  पर  चलें ,  अपनी  बुराइयों  को  छोड़ें ,  तभी  शांति  संभव  है  

No comments:

Post a comment