Wednesday, 14 June 2017

सुख शान्ति से जीने के लिए संवेदना की जरुरत है

संवेदना  न  होने  से   परिवार  टूट  रहे  हैं  , अत्याचार  और  अन्याय  बढ़ा  है  l  पहले  छोटी - छोटी  रियासते  थीं ,  तो  यह  स्पष्ट  था  कि  वहीँ  के  शक्तिशाली  कमजोर  पर  अत्याचार  कर  रहे  हैं   l  अब  वैश्विकरण  का   युग  है  ,  बाजार  की  तरह  अत्याचार , अन्याय , भ्रष्टाचार  और  अपराध ---- यह  सब  भी  वैश्विक  स्तर  पर  है  l    आज  इंटरनेट  के  युग  में  यह  समझना  बहुत  कठिन  है   कि  सामने  जो  अपराध  या  अत्याचार  कर  रहा  है     उसकी  डोर  किस  के  हाथ  में  है ,  अपनी  कमजोरियों  के  कारण  वह  किसके  इशारों  पर  काम  कर  रहा  है  l   आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  --हम  अपना  आत्मिक  बल  बढ़ाएं   l  नि:स्वार्थ  भाव  से ,  ईमानदारी  से   कर्तव्य  पालन   करना   ही  एक  तपस्या  है  l  ऐसा  कर  के   शान्ति     से  रहा   जा      सकता  है    है   

No comments:

Post a comment