Wednesday, 14 June 2017

संसार में सुख - शांति के लिए जीवन में नैतिक मूल्यों की स्थापना अनिवार्य है

   नारी  और  पुरुष  एक  ही  गाड़ी   के  दो  पहिये  हैं  ,  एक  पहिया  अच्छा  हो  और  दूसरा  पंक्चर  हो  तो  गाड़ी  नहीं  चलेगी  l  इसी  तरह  नारी  और  पुरुष  में  से  एक  वर्ग  सन्मार्ग  पर  चले  और  दूसरा  स्वेच्छाचारी  हो  तो  समाज  का  सही  ढंग  से  विकास  नहीं  हो  सकता  l   सबसे  बड़ी  जरुरत  यही  है   कि  नारी  और  पुरुष  दोनों  ही    सद्गुणों को  अपने    जीवन  में अपनाएं  तभी  वे  आने  वाली   पीढ़ी  को  सही  दिशा  दे  सकेंगे  l  

No comments:

Post a comment