Wednesday, 21 June 2017

तन के साथ मन का स्वस्थ होना भी जरुरी है

 मनुष्य  के  सारे  प्रयास  शरीर  को  स्वस्थ  रखने  के  लिए  होते  हैं  ,  मन  को  स्वस्थ  और   परिष्कृत  करने  का  कोई  प्रयास  मनुष्य  नहीं  करता   l    काम , क्रोध , लोभ   , ईर्ष्या, द्वेष, स्वार्थ    जिसके  मन  में  है  वह  न  तो  खुद  शान्ति  से  रहता  है   और  न  और  किसी  को  शान्ति  से  जीने  देता  है  l  एक  व्यक्ति  जो  क्रोधी  है , अहंकारी  है  , तो  उसका  यह  दुर्गुण  परिवार , समाज  सब  जगह  अशान्ति  उत्पन्न  करता  है  l  जिसे  सिगरेट   आदि  नशे  की  लत  है  वह  समाज  में  कोई  सकारात्मक  योगदान  नहीं  देते  वरन  अपने  जैसे  पचास  और  नशेड़ी  तैयार  कर  लेते  हैं   l  इसी  प्रकार  जो  लोभी  है  , लालची  है   वह  अपने  साथ  बेईमानों  की  पूरी  श्रंखला  तैयार  कर  लेता  है  l  ऐसे  दुष्प्रवृत्तियों  वाले  लोगों  की  अधिकता  से  ही  दंगे , अपराध , लूटमार   होते  हैं   l   आज  जरुरत  है  कि  पूरी  दुनिया  में  ऐसी  संस्थाएं  हों  जो  लोगों  को  ईमानदारी , सच्चाई , संवेदना , ईश्वरविश्वास  , धैर्य , कर्तव्यपालन  जैसे  सद्गुण सिखाएं और   क्रोध ,  लालच , ईर्ष्या-द्वेष  जैसे  दुर्गुणों  को  त्यागना ,  आदि    की  शिक्षा  देकर  ' नैतिकता ' में  बड़ी -बड़ी  डिग्री  दें    l   इन  सब  के  साथ   जरुरी  है   लोग  आलस  को  त्यागे ,  कर्मयोगी  बने  l 

No comments:

Post a comment