Sunday, 16 August 2015

धन के सदुपयोग से ही शान्ति संभव है

सामान्य  रूप  से  व्यक्ति  जो  भी  कार्य  करता  है   उसमे  निजी  लाभ  की  भावना  प्रमुख  होती   है  इसी  भावना  के  कारण  वह  दिन-रात  मेहनत  कर  अपने  व्यवसाय  को  ऊँचाइयों  पर  ले  जाता  है  और  बड़ी  धन-सम्पदा  का  स्वामी  बन  जाता  है   ।
 जन-कल्याण  सम्बन्धी  कार्यों   के  लिए  यह    सोचा  जाता  है  कि  यह  सरकार  की  जिम्मेदारी  है   | इसका  कारण  यही  है  कि  निर्धन  बच्चों  की  नि:-शुल्क  शिक्षा,  गरीबों  की  नि:शुल्क  चिकित्सा,   उनके  पीने   का स्वच्छ   पानी,    उनके  लिए    स्व -रोजगार  की  योजनायें  लागू  करना   आदि  ऐसे  कार्य  हैं  जिनमे  तात्कालिक  लाभ  नहीं  मिलता  ।  इसलिए  एक-से-बढ़कर एक  धनपति   भी  ऐसे  कार्यों  में  अपना  धन  नहीं  लगाते  ।    धन-संपन्न  लोग  बड़े  अस्पताल,  कॉलेज,  संस्थाएं  आदि  चलाते    भी  हैं  तो  उनका  उद्देश्य  लाभ  कमाना   है  ।  वहां  फीस  आदि  खर्च  इतना  है  कि  वे  निर्धनों  की  पहुँच  से  बाहर  हैं  ।
        बड़े धनपति   धर्म  के  नाम  पर  होने  वाले  कार्यों  में  और   विभिन्न  प्रकार  के  चन्दे  में  बड़ी  धन  राशि  देते   हैं  ।  यहां  भी  उद्देश्य  दान-दाताओं  की  सूची  में  सबसे  ऊपर  नाम  होना  और  अपने  अहं  का  पोषण   और   निजी  स्वार्थ  पूरा  करना   होता  है  ।
    अब  यदि  धन-वैभव  के  साथ  सुख-शान्ति  का  जीवन  चाहिए,  बीमारी  चाहे  हो  लेकिन  कभी  बिस्तर  न  पकड़ें,  तनाव  न  हो,  चैन  की  नींद  लें  तो  विभिन्न  कार्यों  में  धन  व्यय  करने  के  साथ-साथ  ऐसे  कार्यों  में  भी  धन  व्यय  करें  जहां  कोई  मौद्रिक  लाभ  नहीं  है  ।  ऐसे  कल्याणकारी  कार्य  जिनमे  कोई  तात्कालिक  लाभ  नहीं  है ,     वहां  संसार  का  सबसे  बड़ा  लाभ  ---' मन  की  शान्ति '  मिल  जाती  है  ।  मन  की  शान्ति  का  अर्थ  यही  है  कि  हमने  संसार  में  रहते   हुए  ईश्वर  को   पा  लिया,  यह  अनमोल  है   । 

No comments:

Post a Comment