Saturday, 8 August 2015

शान्ति और सुख के साथ जीवन जीने के सब साधन आपके पास हैं, जरुरत है उदारता की

सुख,  शान्ति,  योग,  आसन  आदि  ऐसे   विषय  है  जिनसे  गरीब  और  अति  निर्धन  लोगों  को  कोई  लेना-देना  नहीं  है  ।  उन्हें  तो  गरीबी,  भूख,  बीमारी,  बेरोजगारी   जैसी  समस्याओं  से  निपटना  है  ।
सुख,  मानसिक  शान्ति   , तनाव  रहित  जीवन  आदि  से  संबंधित  तर्क  उन  लोगों  के  लिए  हैं  जिनके  पास  पर्याप्त  जमा-पूंजी   है,  सभी  आराम  के  साधन  हैं,  समाज  में  प्रतिष्ठा  है  किन्तु  मन  में  शान्ति  नहीं
 है  ।   तनाव  है,  जीवन  में  चैन  नहीं  है  ।
       ये  समस्याएं  बहुत  बड़ी  नहीं  हैं,  इन्हें  डॉक्टरी  ईलाज  से  हल  नहीं  किया  जा  सकता  ।  इनका  हल तो  आपके  विचारों   मे  है  ,   विचारों  में  थोड़ी  सी  उदारता  का  समावेश  कर    व्यक्ति  एक  सफल  जीवन  जी  सकता  है    ,    प्रयास  यह  हो  कि  निर्धन  व्यक्ति  हमारे  परामर्श  से,  सहयोग  से  समर्थ  हो  जाये  ।
हमारे  आचार्य  का,  ऋषियों   का  मत  है  कि   परमार्थ   में  ही  सच्चा  स्वार्थ  है  ।   मन  की  शान्ति  अनमोल  है,   इसे  कहीं  से  खरीदा  नहीं  जा  सकता   ।
       मन    में  परमार्थ  की  सच्ची  प्रेरणा   है  तो  एक  कमरे  में  बैठकर  सतत  निगरानी  रखकर  भी  किया  जा  सकता  है  जैसे    निर्धनों  की  बस्ती  में  और   उस   के  आस-पास    अनेक  फल,  सब्जी  के  पेड़-पौधे  लगवा  दिए  और  उन  लोगों  को  ही  उनकी  रखवाली,  सफाई,  गुड़ाई,  पानी  डालना  आदि  के  लिए   नियुक्त   कर  दिया  । दिन  भर  की  मेहनत  के बदले  उन्हें  शाम  को  आटा,  दाल,  चावल,  शक्कर,  तेल  दें,   ।  अब  वे  भोजन  बनाकर ,   अपने  बच्चों  के  साथ  मिलकर    जब  खायेंगे  तो  उनकी  खुशी  दुआ  बनकर  आप  तक  पहुंचेगी  ।  बस ! हमारे  मन  में  स्वयं  लाभ  कमाना, वहां  हक  जमाना,   प्रतिष्ठा  हासिल  करना  जैसी  भावना  न  हो  ।   

No comments:

Post a comment