Friday, 21 August 2015

सुख-शान्ति से जीने के लिए जीवन-शैली को सुधारना होगा

   आज  के  समय  में    दुनिया  इतनी  सिमट  गई  है  कि  विभिन्न  तत्व  व्यक्ति  के  मन  को  प्रभावित  करते  हैं  |     हम  देखते  हैं  कि  किशोर  वय  के  और  युवा    पीढ़ी  के  लोग  फिल्म  देखकर  एक  काल्पनिक  लोक  की  दुनिया  में  रहते  है,  जीवन  की  वास्तविकता  से  उनका  कोई लेना-देना  नहीं  होता  ।  यह  पीढ़ी  अपनी  संस्कृति,  अपनी  मर्यादा  को  भूलती जा  रही  है  ।  फिल्म  का  ग्लैमर,  विभिन्न  अपराध  के  द्रश्य,  अश्लीलता  इस  पीढ़ी  के  ह्रदय  पर  अंकित  हो  जाती  है  । कलाकार  का   स्वाभाविक  एक्टिंग  करने  का  जूनून  नई  पीढ़ी  को  हर  तरह  की '  सचित्र-शिक्षा '  दे  देता  है  ।
  अब  आप  कितनी  भी   पूजा-प्रार्थना  करें,  दान-पुण्य  करें,  कथा-प्रवचन  सुने,     आपका  मन  इन  श्रेष्ठ  कार्यों  में  केन्द्रित  नहीं  होगा,   मन  में  वही  द्रश्य  और  तरह-तरह  के  विचार  हिलोरे  मारेंगे  ।  इसीलिए  पूजा-पाठ  का  कोई  फल  नहीं  मिलता,  शान्ति  नहीं  मिलती    ।  ऐसे  युवा  पढ़-लिख  कर  उच्च  पद  पर  आ  भी  जायें  तो  वे  नशे  आदि  गलत  आदतों  में  अपनी   शक्ति   गँवाते  हैं,  अपने  परिवार  का  निर्माण  और समाज  निर्माण  में  कोई  योगदान  नहीं  दे  पाते  ।
     जिस   व्यवसाय  में  करोड़ों  का  लाभ  हो,  हम  न  तो  उन्हें  समझा  सकते  हैं  और  न   ही   उनके  बंद  होने  की  उम्मीद  कर  सकते  हैं  ,  हमारे  हाथ  में  तो  हमारा  जीवन  है,  हमें  उसे  ही  सुधारना  है  ।
                      यदि  हम  चाहते  हैं  कि  हमारी  आने  वाली  पीढ़ी  का,  युवाओं  का  अच्छा  स्वास्थ्य  हो,  चरित्र  श्रेष्ठ  हो,  उनमे  नैतिक,  मानवीय  मूल्य  हों  तो  सबसे  पहले  माता-पिता  को  और  परिवार  में  रहने  वाले  बड़े-बुजुर्गों  को  बदलना  होगा  ।  स्वयं  श्रेष्ठ  राह  पर  चलकर  ही  बच्चों  को  सही  राह  दिखा  सकते  हैं  ।  यदि  घर  में  रहने  वाले  रिटायर  बुजुर्ग  दिन  भर  टीवी  देखते  हैं  तो  स्कूल  से  पढ़कर  आने  वाले  बच्चे  को  आप  टीवी  देखने  से  रोक  नहीं  सकते  ।  इसी  तरह  यदि  पिता   नशे  में  है,  माँ  गपशप  में  व्यस्त  है  तो  आप  बच्चों  को  सही  दिशा  कैसे  देंगे  ?
  जीवन  में   मनोरंजन  भी  जरुरी  है,   लेकिन  इसका  समय  निश्चित  करें  ।  माता-पिता  स्वयं  श्रेष्ठ  साहित्य  पढ़े,  सकारात्मक  कार्य  करें  ,  आने  वाली  पीढ़ी  उनका  अनुसरण  करेगी  । 

No comments:

Post a comment