Monday, 3 August 2015

विचारों में परिवर्तन से ही शान्ति संभव है

शान्ति  और  अशान्ति  में  पल  भर  का  अंतर  है   ।   जिन  समस्याओं  को  ले  कर  हम  परेशान  रहते  हैं,  उनके  प्रति  यदि  हम  अपनी  सोच  बदल  लें  तो  हमारे  मन  में  तुरन्त  शान्ति  आ  जाये   ।
      आज  समाज  में  धन-वैभव  और  ओहदे  के  आधार  पर  व्यक्ति  का   मूल्यांकन   होने  लगा  है,  इस  स्थिति  को  उसने  चाहे  जिस   भी   तरीके  से  प्राप्त  किया  हो ,  इसी  कारण  समाज  में  अव्यवस्था ,  भ्रष्टाचार  और  पद  पाने  की  होड़  लगी  है  ।
   समाज  में  लोग स्वयं  ही  अपने  छोटे-छोटे  स्वार्थों  के  लिए  ऐसे  धनी  और  पदों  पर  बैठे  व्यक्तियों  को  घेरे  रहते    हैं,  उनकी  जी-हुजूरी  कर  उनके  महत्व  को  बढ़ाते  हैं,  उनके  अहंकार  को   पोषित  करते  हैं  ।  यह  सब  देखकर  अन्य  महत्वकांक्षी  व्यक्ति  भी  गलत  तरीके  से  धन-दौलत  और  पद  पाने  की    दौड़  में  सम्मिलित  हो  जाते  हैं  ।
  यदि  आप  शान्ति  चाहते  हैं  तो  ऐसे  '  धनी '  व्यक्तियों  को  अपने  धन  के  ढेर  पर  बैठे  रहने  दीजिए,
  ' ओहदे '  वाले   अपनी    कुर्सी  पर  बैठे  रहें  ।  किसी  भी  सहायता  के  लिए  आप  उनकी  ओर  न  देखें  |   आप  ईश्वर  की  सत्ता  में  और  अपनी  मेहनत,  अपने  श्रम  पर  भरोसा  कीजिये  ।  दूसरों  को   देख  कर  कभी  परेशान  ना  हों  ।   अपना कर्तव्य-पालन  करो  ।
 अपने   स्वाभिमान  को  जगाओ  ।   देने  वाला  ईश्वर  है   ।
जब  ऐसे  व्यक्ति  अधिक  होंगे  जो  सत्कर्म  और  श्रेष्ठ  गुणों  के   कारण   ही  किसी  व्यक्ति  का  अभिनन्दन   करेंगे  तब  ये  अत्याचार,  अन्याय  स्वत:  ही  कम  हो  जायेगा  । 

No comments:

Post a comment