Sunday, 10 January 2016

समस्या की चर्चा न करें , उसका समाधान खोजें

  अधिकांश  लोग   हर  समय  एक  न  एक  समस्या  पर  चर्चा  करते  रहते  हैं  ।  ऐसा  करने  से  समस्या  समाप्त  नहीं  होती ,  बढ़ती  जाती  है  ।  उचित   यह  है  कि  समस्या  चाहें  परिवार  की  हो  या  समाज  की     उसका  समाधान  क्या  हो   ?  इस  बात  पर  चर्चा  हो   ।   निरंतर  समाधान  के  बारे  में  सोचने  से  समाधान  निकल  ही  आता  है  । जैसे  लोग  धर्म  के  नाम  पर  लड़ते  हैं  ,  अपनी  जाति,  अपने  धर्म  को  श्रेष्ठ  समझते  हैं   ।  समस्या  तब  उत्पन्न  होती  है  जब  व्यक्ति  अपनी  श्रेष्ठता  को  दूसरों  पर  थोपना  चाहता  है   ।  दूसरों  से  स्वयं  को  श्रेष्ठ  कहलवाना  चाहता  है  ।   इस  कारण  समस्या  कभी  समाप्त  नहीं  होती ,  अहंकार  के  साथ  समस्या  बढ़ती  जाती  है  ।
  समस्या  तभी  हल  होगी    जब  प्रत्येक  व्यक्ति  का   अपना  धर्म  होगा  ,  प्रत्येक  व्यक्ति  अपने  तरीके  से ,  अपने  शब्दों  में ,  अपने  धार्मिक  स्थलों  पर  अपने  ईश्वर  को  याद  करेगा   ।  यह  उसका  व्यक्तिगत  धर्म  होगा    जिस  पर  कोई  प्रतिबन्ध  नहीं ,  कोई  उसकी  धार्मिक  भावनाओं  को  ठेस  न  पहुंचाएं  ।
     हम  सब  एक  सामाजिक  प्राणी  हैं    और  हम  अपने  धर्म  अपने  ईश्वर  के  प्रतिनिधि  हैं   ।  समाज  में  स्वयं  को  श्रेष्ठ  मानकर  कोई  लड़ाई - झगड़ा  न  करे  इसके  लिए  जरुरी  है  --- एक  सामाजिक  धर्म  हो ----
मानव  धर्म  हो  --- जो  सारे  सद्गुणों  से  मिलकर  बना  हो   ।  ईमानदारी ,  सच्चाई ,  धैर्य ,  दया , संवेदना ,  कर्तव्यपालन  आदि  विभिन्न  सद्गुणों  से  मिलकर  बना  यह  धर्म  हो  ।  परस्पर  व्यवहार  में  व्यक्तिगत  धर्म  की  चर्चा  न  हो  ,  इसी  सामाजिक  धर्म  का  पालन  हो  तभी  संसार  में  शान्ति  होगी  । 

No comments:

Post a comment