Monday, 18 January 2016

प्रकृति में क्षमा का प्रावधान नहीं होता

  आज  संसार  में  कितने  ही  ऐसे  लोग  हैं  जो  उन  कार्यों  से  जुड़े  हैं   जिन्हें  अनैतिक  कहा  जाता  है   ।  ऐसे  लोगों  को  अब  ईश्वर  का ,  प्रकृति   की  नाराजगी  का  भय  नहीं  रहा   ।  धन  के  बल  पर  और  विभिन्न  हथकंडे  अपना  कर  कानून  से  भी  बच  जाते  हैं  ।  ईश्वरीय  विधान  के  अनुसार   उन्हें   समाज  को  पतन  की  ओर  ले जाने  वाले  कार्य  करने  से  प्रकृति  का  दंड  भी  मिलता  है  ,  लेकिन  अब  उन्हें  इसकी  आदत  बन  चुकी  है  ।  अनेक  तर्क - कुतर्क  कर के  वे  स्वयं  को  सही  सिद्ध  करते  हैं   ।
 महत्वपूर्ण  बात  यह  है  कि  इनका  समूह  बढ़ता  जा  रहा  है , अनैतिकता  का अन्धकार  बढ़ता  जा  रहा  है ।         ऐसा  क्यों  है  ?    यदि  हम  इनके   कार्य - व्यवहार    को  देखें    तो   उसमे  एकरूपता  है    जैसे ------
   एक  शराबी  है  ।  वह  स्वयं  शराब  पीता  है , उसके  नशे  में  स्वयं  डूबता  है    तब  वह  दूसरों  को  भी  शराब  पीने  को  कहता  है  ।  और  अपने  जीवन  में  हजारों  लोगों  को  अपने  साथ  शराब  पीने  में  जोड़  लेता  है  । इसी  तरह  जुआरी   या  अन्य  अनैतिक  कार्य  करने  वाले   ,  पहले  स्वयं  गलत  कार्यों  से  जुड़ते  हैं  फिर   उसमे    अन्य    लोगों  को  भी  जोड़  लेते  हैं   ।  इसका  अर्थ  हुआ  कि  उनके  विचार  और  कार्यों  में  एकरूपता  है ,  जैसा  कहते  हैं   वैसा  वे  स्वयं  करते  हैं ,   इसीलिए  उनका  समूह  बढ़ता  जा  रहा  है  ।    
        जब  बुराई  इस  तरह  से  बढ़  सकती  है   तो  अच्छाई  क्यों  नहीं  ?
जब  व्यक्ति  का  स्वयं  का  आचरण  अच्छा  होगा  ,  स्वयं  सन्मार्ग  पर  चलकर   लोगों  को   श्रेष्ठता  की  राह  पर  चलने  के  लिए  प्रेरित  करेगा   तब  सन्मार्ग  पर  चलने  वालों  का  संगठन   भी  बहुत  बड़ा  बड़ा  व  शक्तिशाली  हो  जायेगा   जो  इस  अंधकार  को  दूर  कर  देगा   । 

No comments:

Post a comment