Saturday, 16 January 2016

अशान्ति के मूल कारणों पर ध्यान देना होगा

                 यदि  पेड़  बबूल  का  होगा तो  उसमे  आम  नहीं  लग  सकता   l
 लूट,  हत्या ,  महिलाओं  के  प्रति  अपराध  तेजी  से  बढ़ते  जा  रहें  हैं  ।  विशेष  रूप  से  महिलाओं  के  प्रति  होने  वाले  अपराधों  में  वृद्धि  हो  रही  है  है  । इसके  अनेक  कारण  हैं ---- अपराधी  को  शीघ्र  दंड  नहीं  मिलता ,  अनेक  अपराधी  बच  जाते  हैं   और  समाज  में  रहते  हैं  ।  मुख्य  बात  यह  है   कि  बच्चे  अपने  माता - पिता  का  ही  प्रतिरूप  होते  हैं   ।   चरित्र  संस्कार  से  मिलता  है  ।  जो  पुरुष  व्याभिचारी  हैं ,  अपराधी  हैं ,   पीढ़ी - दर - पीढ़ी  ये   बुराइयाँ  उनकी   संतान   में  आती    हैं  ।
माल्थस  का  सिद्धांत  है  कि  जनसँख्या  गुणात्मक  दर--- 2,  4,  6,  8----- से   बढ़ती  है   ।
इसलिए  ऐसे   अपराधियों  की  संख्या  तेजी   से  बढ़ती  जा  रही  है  जो  संसार  में  अशान्ति  का  कारण  है  ।
     प्रत्येक  समस्या  का  हल  स्वयं  व्यक्ति  के  पास  है  -------------
एक  पिता  कैसी  संतान  चाहता  है ----- अपराधी ,  बलात्कारी ,  जुआरी --    या   एक  श्रेष्ठ  व्यक्तित्व  संपन्न    संतान   जिसके  श्रेष्ठ  कार्यों   से  न  केवल  पिता  अपितु   सम्पूर्ण  समाज  को  गर्व  हो  सके  ।
  स्वयं  के  सुधार  से  ही  समाज  का  सुधार  होगा   । 

No comments:

Post a comment