Saturday, 9 January 2016

अवगुणों को त्यागने और सद्गुणों को अपनाने से ही शान्ति संभव है

वर्तमान  समय  में   हम  देखें  तो  संसार  में  विभिन्न  धर्मो  के    अनेक   पूजा - प्रार्थना  के  स्थल  हैं   | और  इनकी  संख्या  धीरे - धीरे  बढती  ही  जा  रही  है  ।
यह  भी  एक  आश्चर्य  है  कि  संसार  में  ऐसे  धार्मिक  स्थानों  की  संख्या  बहुत  है  ,  जहाँ    विभिन्न  धर्मों  के  अनुयायी  जाते  हैं   और  अपने  तरीके  से  ईश्वर  की  पूजा  करते  हैं  लेकिन  फिर  भी  संसार  में  शान्ति  नहीं  है ,  आतंक  और  युद्ध  का  खतरा  है  ।  इसका  कारण  यही  है   कि  मनुष्य  ने  मंदिर , मस्जिद ,  चर्च ,  गुरूद्वारे  आदि  तो  बहुत  बनवा  दिए    लेकिन  न  तो  स्वयं  के  अवगुणों  को  दूर  किया   और  न  ही  इनके  माध्यम  से  नैतिकता  का  ,  लोगों  के  चरित्र -गठन  का  कोई  प्रयास  किया  ।
  हमें  यह  बात  समझनी  होगी  कि  केवल  बाहरी  कर्मकांड  करने  से  सुख - शान्ति , नहीं  मिलती  ।
अपने  अवगुणों  को  दूर  करने  पर    और   परमार्थ  करने  पर  ही   मन  को  शान्ति  मिलती  है  ।
भगवान  चाहे  किसी  भी  धर्म  के  हों  ,  वे  प्रकट  होकर  भेंट - पूजा  नहीं  लेते  ।  भगवन  के  नाम  पर  धर्म  के  ठेकेदार  ये  सारी   भेंट - पूजा  रख  लेते  हैं   |  प्रत्येक  व्यक्ति  अपनी  भावना  के  अनुसार  अपने  धर्म  को  मानने  को  स्वतंत्र  है    लेकिन   यदि  शान्ति  चाहिए  ,  सुख - चैन  की  नींद  चाहिए   तो  अपने  दोष - दुर्गुणों  को  दूर  करना  होगा  और  सद्गुणों  को  जीवन  में  अपनाना  होगा   । 

No comments:

Post a comment