Sunday, 31 January 2016

समस्याओं का कारण है ----- विवेक की कमी

मनुष्य  का  जीवन  समस्याओं  से  घिरा  हुआ  है   ।  विवेक  न  होने  से   वे  समस्याएं  हमें  परेशान   करती  हैं ,  हम  पर  बोझ  बन  जाती  हैं  |  लेकिन  यदि  हमारे  पास  विवेक  है  तो  ये  समस्याएं  हमारे  लिए  चुनौती  हैं  हम  इनका  सामना  करते  हैं  ,  सफल  होते  हैं  और  अगली  चुनौती  का  इंतजार  करते  हैं  ।
  व्यक्ति  में  कोई  सद्गुण  है ,  उसका  उपयोग  कहाँ  करना  है  यह  समझ  विवेक  से  आती  है   ।   जैसे  एक  व्यक्ति  में  बहुत  सहनशक्ति  है  ,  वह  पारिवारिक  जीवन  में ,  रिश्तों  को  मधुर  बनाने में  इसका  प्रयोग  करे   तो  यह  इस  गुण  का   सही  उपयोग  है  ।  लेकिन  यदि  वह    अत्याचार  और  अन्याय  को  सहन  करता  है    तो  यह  उसकी  कायरता  है  ।
अत्याचार  और  अन्याय  को  सहन  कर  के  व्यक्ति  अत्याचारी  को  और  अहंकारी  बना  देता  है ,  वह  उन्मत  हो  कर  और  अत्याचार  करता  है  |  इसलिए  हमें  अन्याय  का  प्रतिरोध  अवश्य   करना    चाहिए  |            आज   संसार  में    सर्वत्र  चुनौतियां  हैं  ,   हमारी  प्राथमिकता  हो  कि  हमारा  विवेक ,  हमारी  प्रज्ञा  जाग्रत  हो   लेकिन  कैसे  ? कोई  स्कूल  , कोई  संस्था  हमारा  विवेक  जाग्रत  नहीं  कर  सकती   ।  इसके  लिए  जरुरी  है  ---- हम  सन्मार्ग  पर  चलें ,  अपनी  बुराइयों  को  दूर  करें ,  नि:स्वार्थ  भाव  से  सत्कर्म  करें   ,  अपने  भगवान    से   सद्बुद्धि  के  लिए  प्रार्थना  करें   ।  ऐसा  करने  से  मन  निर्मल  होगा  और  निर्मल  मन  में  ही  विवेक  जाग्रत  होगा   । 

No comments:

Post a comment