Friday, 15 January 2016

अपने कार्य को पवित्र और श्रेष्ठ भावनाओं से जोड़ें

 हम  जो  भी  कार्य  करते  हैं  उसके  पीछे  हमारी  भावना  क्या  है  ?  यह  सबसे  महत्वपूर्ण  है   ।  जिसे  पाप  और   पुण्य   कहा  जाता  है  , वह  हमारी  भावनाओं  से  ही  निश्चित  होता  है  ।    कार्य  यदि  ईमानदारी  से   और  लोककल्याण   की  भावना  से  किया  जाता  है  तो  वही  पुण्य  है    लेकिन  यदि  किसी  कार्य   के  माध्यम  से   लोगों  को   उत्पीड़ित   किया  जाता  है ,  किसी  को  दुःख  पहुँचाया  जाता  है  तो  कार्य  चाहें  श्रेष्ठ  हो  लेकिन  भावना  निकृष्ट  है  तो  वह  कार्य  पाप  बन  जाता  है   ।  जैसे  कोई  सैनिक  देशभक्ति  की  भावना  से ,  अपनी  मातृभूमि  की  रक्षा  के  लिए  वीरता  पूर्वक  युद्ध  करता  है   तो  वह  वीर  कहलाया ,  उसे  वीरोचित  सम्मान  मिलता  है  ।  ऐसे  पवित्र  कार्य  से    इतिहास  में   उसका     नाम  स्वर्णाक्षरों  में  लिखा  जाता  है  ।
  लेकिन    यदि  सैनिक  की  भावना  युद्ध  के  बहाने   महिलाओं  को  उत्पीड़ित  करने  की   ,  उनका  चरित्र - हनन  करने  की  है ,  किसानों  के  खेतों  और  बस्तियों  को  उजाड़ने  की  है   तो  ऐसे  कार्य   से   वीरोचित  सम्मान  नहीं  मिलता  ।
निकृष्ट  या  महान  बनना   व्यक्ति   के  अपने  हाथ  में  है  ।  प्रकृति  सबको  अवसर  देती  है   लेकिन  चुनाव  व्यक्ति  को  करना  पड़ता  है   ।  हम   ईश्वर  से  सद्बुद्धि  के  लिए  प्रार्थना  करें  --- ईश्वर  हमें  विवेक  दे ,  सद्बुद्धि  दे   ,  जिससे  हम  श्रेष्ठ  और  पवित्र  भावना  से   कार्यों  को  संपन्न  करें  । 

No comments:

Post a comment