Monday, 11 January 2016

इच्छाओं पर नियंत्रण रखें

  सुख - शान्ति  से  जीने  का  मूल  मन्त्र  यही  है  कि  हम  अपनी  इच्छाओं  पर  नियंत्रण  रखें   ।  परिवार  की  जितनी  आय  है  उस  हिसाब  से  बजट  बनाकर  धन  खर्च  करें  ।    जहाँ  तक  संभव  हो  कर्ज  न  लें  ।   शिक्षा ,  भोजन , वस्त्र  तथा  विभिन्न  सुविधाओं   आदि  पर  अपनी  आय  के  अनुपात  में  ही  धन  खर्च  कर  के  शान्ति  से  रहा  जा  सकता  है  ।  आज  के  समय  में  अशान्ति  का  एक  बहुत  बड़ा  कारण  है    कि  लोग  अपनी  आय  के  अनुपात  में  धन  खर्च  नहीं  करते  ,  अमीरों  की  नकल  में  विभिन्न   कार्यों  के  लिए    बहुत  अधिक  कर्ज  लेते  हैं   ।   अचानक  कोई  बड़ा  नुकसान  हो  जाये   तो  कर्ज  के   भार  की  वजह  से  निराशा  में  डूब  जाते  हैं   ।
व्यक्ति  को  अपनी  समझ  विकसित  करनी  होगी  कि  वह   दिखावा  और  झूठी  शान - शौकत  के  लिए  कर्ज  लेकर  आपा - धापी  की  जिंदगी  जीना  चाहता  है   या    अपनी  आय  के  अनुपात  में  धन  खर्च  कर  ,  आगे  बढ़ने  के  लिए  निरंतर  प्रयास  करते  हुए  शान्ति  से  जीवन  जीना  चाहता  है    । 

No comments:

Post a comment