Wednesday, 13 January 2016

संसार में शान्ति तभी होगी जब संवेदना जागेगी

 वर्तमान  की  सब  समस्याओं  का  मूल  कारण  है  कि  मनुष्य   एक  मशीनी  मानव  बन  गया  है ,  उसके  ह्रदय  की  सारी    संवेदना  समाप्त  हो  गई  है   ।  एक - दूसरे   के  प्रति  सहयोग , सहानुभूति , करुणा , प्रेम  जैसी  पवित्र  भावनाएं  समाप्त  हो  गईं  हैं  और  उसका  स्थान  स्वार्थ ,  लालच , धोखा  व  उत्पीड़न  ने  ले  लिया  है   ।  लोगों  के  स्वाभाव  में  क्रूरता  व  निर्दयता  बढ़ती  जा  रही  है  ।
  यदि  संसार  में  शान्ति  चाहिए  तो  समूचे  संसार  में  ऐसी  संस्थाएं   खोलनी  चाहिए  जो  बच्चों को , युवकों  को ,  प्रौढ़ों  व  वृद्धों  को  संवेदना , सहयोग ,  जियो  और  जीने  दो  की  शिक्षा  दें  ।   अक्षर  ज्ञान  से  पहले  बच्चों  को  स्वयं  से  प्रेम  करना  सिखाया  जाये  । सबसे  ज्यादा  समझ  की  जरुरत  प्रौढ़  आयु   वर्ग  और   युवा  वर्ग  को  है  ।  इसी   आयु  वर्ग  के  लोगों  के  स्वार्थ , धन  का  लालच , वासना ,  क्रोध ,  अहंकार ,  कट्टरता   आदि  दुष्प्रवृत्तियों  का  परिणाम   सारा   संसार    भुगतता  है  ।
  संसार  में  शान्ति  के  लिए  विचारों  में  थोड़े  से   परिवर्तन  की  जरुरत  है   ।  अपनी  शक्ति ,  अपने  धन  का  प्रयोग   लोगों  को   उत्पीड़ित   करने  और  प्रकृति  को  नष्ट  करने  के  बजाय    सकारात्मक  कार्यों  में ,  मनुष्य  के  कल्याण  के  लिए  करें    ।  जो  लोग  अभी  भय  से  और  चापलूसी  के  लिए  जय - जय कार  करते  हैं  फिर  वही  लोग  अपनी  आत्मा  से  ,  ख़ुशी  से  जयकार  करेंगे  । 

No comments:

Post a comment