Tuesday, 1 November 2016

धन के लालच से बुद्धि कुमार्गगामी हो गई है

      धन  में  एक  ऐसा  आकर्षण  है  जो  कभी  कम  नहीं  होता  ।  कोई  कितना  भी  अमीर  हो  जाये  लेकिन  धन  कमाने   के  गलत  तरीके  नहीं  छोड़ता  ।   कला ,  सौन्दर्य   सब  बाजार  हो  गया   ।  इस  माध्यम  से  कितना   पैसा  कमाया  जाये  ,  कितनी  विलासिता  से  रहा  जाये  यही  प्रमुख  हो  गया  है  ।
  धन  कमाना  भी  जरुरी  है    लेकिन  ऐसे  तरीके  जैसे  नशा ,  मांसाहार ,  फिल्म ,  साहित्य  में  अश्लीलता  --- आदि  धन  कमाने  के  ऐसे  तरीके  हैं   जिनसे  सारे  समाज  में  मानसिक    प्रदूषण    फैलता  है   ।  लोगों  की  बुद्धि  स्थिर  नहीं  रहती ,  कोई  सकारात्मक  कार्य  करने  के  बारे  में  लोग  सोच  नहीं  पाते  ।  
  सम्पूर्ण  समाज   जब  प्रदूषित  होता  है  तो  उसमे  ऐसा  प्रदूषण  फैलाने  वालों  का  परिवार  और  आगे  आने  वाली  पीढ़ियाँ  भी  इस   प्रदूषण    की   चपेट   में  आती  हैं  ।
  यही  दुर्बुद्धि  है ---- मनुष्य  अपने  हाथों  से  अपनी  आने  वाली   पीढ़ियों   के   लिए   जहर  के  बीज  बो   कर   जाता  है   ।   धन  का  तो  ढेर  होता  है    लेकिन  उसका  सदुपयोग  करना  नहीं   आता   l    यही  पतन  का  कारण    है   । । 

No comments:

Post a comment