Thursday, 19 January 2017

संसार में शान्ति के लिए सच्चे अर्थों में धार्मिक होने की जरुरत है

   आज  के  समय  में  अधिकांश  लोग  ऐसे  हैं  जो  अपने  धार्मिक  स्थल  पर  जायेंगे ,  भजन - पूजन  करते  हैं ,  बहुत  दान   पुण्य   भी  करते  हैं   लेकिन  व्याहारिक  जीवन  में    झूठ , बेईमानी ,  भ्रष्टाचार ,  दूसरों  को  अकारण  तंग  करना  ऐसे  गलत  कार्यों  में  संलग्न  है  ,  फिर  भी   वे  धार्मिक  कहे  जाते  हैं  और  समाज  में  उनका  सम्मान  है   |
  सच्चे  अर्थों  में  धार्मिक  होना  पड़ेगा  ,  मेहनत  और  ईमानदारी  से  काम  करके   अपने   बाह्य    जीवन  को  सफल  बनाना  होगा    और  परोपकार , सेवा     निष्काम  भाव  से  करके   अपने  मन   को  निर्मल   बनाना  होगा  जिससे   जीवन  में  सुख  शान्ति  प्राप्त  हो  सके   |

No comments:

Post a comment