Monday, 23 January 2017

कर्मयोगी बने

  हमारी  अधिकांश  समस्याओं  का  कारण  है ----- आलस  |  आज  व्यक्ति  सोचता  है कि  कम  परिश्रम  कर  के  ज्यादा  पैसा  कमा  लें  ।   इसके  पीछे  एक  कारण  यह  भी  है   कि  अधिकांश  माता - पिता  अपने  बच्चों  को  सारी  सुख - सुविधाएँ  देकर  बहुत  आराम - तलबी  से  रखते  हैं  ,  इससे  वे  बच्चे  बड़े  होकर  संघर्ष  करने  से  डरते  हैं  ।  अपना  कार्य  दूसरों  पर  टालते  हैं   या  करना  भी  पड़े  तो  बोझ  समझ  कर  करते  हैं  ।     आलसी  स्वभाव  होने  से  ' आत्म  निर्भर  होना ,  स्वाभिमान  से  जीना '  जैसी  भावना  समाप्त  हो  जाती  है  ,  इससे  बेईमानी  और  भ्रष्टाचार  जैसी  समस्या   कि  मेहनत  न  करनी  पड़े ,  चालाकी  से  ज्यादा  कमा  लो  --- ऐसे  विचारों  को  बल  मिलता  है  ।
  आज   पुन:  गुरुकुल  जैसी   व्यवस्था  की  जरुरत  है   जहाँ  बच्चों  को  गुरुमाता  का  स्नेह  भी  मिलता  था   और  राजा  हो  या   रंक  ,  कृष्ण  हों  या  सुदामा  सबको  अथक  परिश्रम  करके   ज्ञान  प्राप्त  करना  पड़ता   था  ।  
    वैज्ञानिक  युग  ने  हमें  बहुत  सुविधाएँ  दी  हैं  ,   हम  इन  सुविधाओं  के  साथ  संघर्ष  का  समन्वय  करें ,  ये  सुख - सुविधा  के  साधन  हमें  आलसी  न  बनायें  । 

No comments:

Post a comment