Sunday, 8 January 2017

समाज में शान्ति के लिए जरुरी है कि पुरुष और नारी दोनों ही एक दूसरे के महत्व को स्वीकार करें

  मनुष्य  एक  सामाजिक  प्राणी  है  ,  पुरुष  और  नारी   ही  इस  समाज  में  हैं   और  आधुनिक  युग  में  जी  रहे  हैं    लेकिन    चेतना  विकसित  नहीं  हुई   |  स्वतंत्रता  ,  स्वच्छंदता  में  बदल  गई    और   किसी  प्रकार  का  भय ,  रोक - टोक  न  होने  से  मनुष्य  के  भीतर  छिपा  हुआ  पशु   जाग  जाता  है  ,  इससे  न  केवल  सामाजिक  जीवन  अपितु  पारिवारिक  जीवन  भी   अशांत    और  कलहपूर्ण  हो  जाता  है  |
  हम  चाहे  कितने  भी  आधुनिक  हो  जाएँ  लेकिन  जो  संस्कृति  हमारे  रोम - रोम  में  बसी  है  ,  हम  उससे  अलग  नहीं  हो  सकते   और  अपने  पारिवारिक  जीवन  में  मर्यादा  और   पवित्रता  देखना  चाहते  हैं  |
  आज  के  स्वच्छंद  वातावरण  में    जब  अश्लीलता ,  नशा   अपनी  चरम  सीमा  पर      है   इस  संस्कृति  की  रक्षा  कैसे  संभव  है  ?   हमें  स्वयं  जागना  होगा   क्योकि  जब  समाज  का  चारित्रिक  पतन  होता  है  तो  उसके  परिणाम  बड़े  दूरगामी  होते  हैं  --- रिश्तों  की  अहमियत  ख़त्म  हो  जाती  है ,  परिवार  बिखर  जाते  हैं    ,  महान  आत्माएं  भी  धरती  पर  आने  के  लिए  तरसती  हैं   ।  

No comments:

Post a Comment