Thursday, 5 January 2017

संसार में अशान्ति का कारण है ------- अत्याचारी का साथ देना

   इस  संसार  में  अनेक  अच्छे  लोग  हैं  ,  बहुत  पुण्य  के  कार्य  करते  हैं    लेकिन  अनजाने  में  वे  अपने  पुण्यों  को  कम  कर  देते  हैं ,  अपनी  प्राणशक्ति ,  अपने  प्रभामंडल  को  कमजोर   कर  लेते  हैं  |
  आज  के  समय  में  हम  देखते  हैं  कि  प्रत्येक  वह  व्यक्ति  जिसके  पास  कोई  ताकत है ----- धन , पद , शारीरिक  बल  ---- वह  इस  शक्ति  के  मद  में  अपने  से  कमजोर  पर  अत्याचार  करता  है   और  अनेक  लोगों  को  कोई - न - कोई  लालच  देकर  अपने  पक्ष  में  कर  लेता  है  ,  शक्तिशाली  होकर  उसके  अत्याचार   चरम  सीमा  पर  पहुँच  जाते  हैं   ।   अत्याचारी  और  अन्यायी  का  समर्थन  करने   वाले ,  उसके  विरुद्ध  आवाज  न  उठाने  वाले   का  क्या  हश्र  होता  है  ,  इसका  ज्ञान  हमें  रामचरितमानस  से  मिलता  है ------
        '  राम  - रावण  का  युद्ध  हो  रहा  था  ,  रावण  की  सेना  का  सेनापति  उसका   शक्तिशाली  पुत्र  ' मेघनाद    था  ।  वह  बहुत  वीर  था ,  उसने  एक  बार  स्वर्ग  के   राजा  इन्द्र  को  पराजित  किया  था ,  इसलिए  उसे '  इन्द्रजीत  '  भी  कहते  हैं  ।    श्रीराम   की  सेना  में  लक्ष्मण  सेनापति  थे   ।   लक्ष्मण जी  और  मेघनाद  में  भयंकर  युद्ध  हुआ   और  मेघनाद  ने  शक्तिबाण  से  लक्ष्मण  को  मूर्छित  कर  दिया  ।
  ऐसा  कहते  हैं  जब  श्री हनुमानजी  संजीवनी  बूटी  लेकर  आ  रहे  थे  तो  लक्ष्मण जी  की  पत्नी  उर्मिला  ने  उन्हें  एक  फूलों  का  हार  दिया  कि  युद्ध  में  लक्ष्मणजी  वह  हार  पहन  लें ,  पतिव्रता  नारी  का  तेज  उनकी  रक्षा  करेगा  ।
    मेघनाद  की  पत्नी   सुलोचना  भी  बहुत  पतिव्रता  थी  ,  उसने  भी  अपने  पति  मेघनाद  के  गले  में  फूलों  का  हार  पहना  दिया  ।   युद्ध  के  मैदान  में  लक्ष्मण  और  मेघनाद  में  भयंकर  युद्ध  हो  रहा  था  ,  लेकिन  शक्तिशाली   बाण   उन  फूलों  के  हार  में  छिपी  पतिव्रता  की  शक्ति  को  नमन  कर  लौट  रहे  थे   ।
   लक्ष्मण जी   का  फूलों  का  हार  वैसे  ही  तरोताजा  था   लेकिन    धीरे - धीरे  मेघनाद  के  गले   के  हार  के    फूल  मुरझाने  लगे ,  वह  कमजोर   पड़   गया   और   लक्ष्मणजी  के  बाण  से  मृत्यु  को  प्राप्त  हुआ   ।
       भगवन  श्रीराम  से  पूछा  गया  कि  मेघनाद  की  पत्नी  सुलोचना   पतिव्रता  थी  फिर  उसके  फूलों  का  हार  क्यों  मुरझाया  ?
  भगवान  ने  कहा -- '  मेघनाद  ने  ऐसे  व्यक्ति  ' रावण '  का  साथ  दिया   जो  अत्याचारी  था ,   जिसने  परस्त्री  का  अपहरण  किया ,  उस पर  कुद्रष्टि  डाली ,     इस  कारण   सती  सुलोचना  का  तेज  उसकी  रक्षा  न  कर  सका   ।   जबकि  लक्ष्मणजी  के  पास  संयम  का  बल  था   । '
  इस    द्रष्टान्त  से  हमें  यही  शिक्षा  मिलती  है  कि --- अपने  जीवन  में  यदि  सुख - शान्ति  ,   विपदाओं  से  लड़ने   और  विजयी  होने  की  ताकत  यदि  चाहिए  तो  अत्याचारी  का ,  चाहे  वह  अपना  सगा  ही  क्यों  न  हो  ,  कभी  साथ  न  दे   । 

No comments:

Post a comment