Wednesday, 25 January 2017

भ्रष्टाचार की सोच ने पूजा - पाठ और पुण्य कार्यों की परिभाषा बदल दी

   आज  के  समय  में  कथा , प्रवचन , हर  प्रकार  की  पूजा  एक  व्यवसाय  है ,  आकर्षक  रोजगार  है   ।  लोग  स्वयं  अपने  व्यक्तित्व  को  परिष्कृत  कर ,  बुरी  आदतों  को  छोड़कर  अपने  ह्रदय  में  विराजमान    ईश्वर  को  जाग्रत  करने  का  परिश्रम  करना  नहीं  चाहते  ,  वे  तो    धन  के  बल  पर , चढ़ावा  चढ़ाकर  ईश्वर  की  कृपा  चाहते  हैं   ।  
  व्यक्ति  पूजा - पाठ  चाहे  न  करे  ,  केवल  अपना  कर्तव्य - पालन  ही  ईमानदारी  से  करे  तो  सारी  समस्याएं  हल  हो  जायें  ।   संसार  में  रहकर  अपना  कर्तव्यपालन  ही  सबसे  बड़ी  पूजा  है ,  जब  व्यक्ति  इसी  से  दूर  भाग  रहा  है  तो  शान्ति  कैसे  हो  ?
 आज  लोग  पुण्य  भी  करते  हैं  तो  उसकी  आड़  में  बड़ी  बेईमानी  कर  लेते  हैं  जैसे  ---- जैसे  एक  शिक्षक  है   या  डाक्टर  है   ,  उसने  किसी  प्रकार  रोजगार  प्राप्त  कर  लिया  l   अब  वह  अपने  वेतन  के   अतिरिक्त  और  बड़ी  कमाई  करना  चाहता  है  तो  वह   सांठ-गाँठ  करके   अपने  वेतन  का  कुछ  हिस्सा  किसी  को  देकर ,  अपनी  जगह  उसे  भेज  देगा   और  स्वयं  कहीं   कोई  व्यवसाय  करके  और  धन  कमाएगा  ।
  जब  व्यक्ति  की  सोच  में  बेईमानी  आ  जाती  है   तो  वह  समझता  है  कि  उसने  किसी  को  रोजगार  देकर  पुण्य  किया  और  अतिरिक्त  कार्य  करके  ' कर्मठ '  बन  गया  किन्तु  सच्चाई  यह  हुई  कि   विद्दार्थी  को  योग्य  व्यक्ति  से  ज्ञान  नहीं  मिला ,   कई  लोग  गलत  इलाज  के  कारण  और  बीमार  हो  गए  ।
  जब  सोच  में  ईमानदारी  न  हो  तो  ऐसे  लोग  जुड़कर  बड़ी  श्रंखला  बना  लेते  हैं   और  हर  व्यक्ति  अपना  प्रतिशत  लेकर  चुप  रहता  है  ,  लेकिन  ईश्वर  की निगाह  से  कुछ  छुपता  नहीं  है  ।
 इसीलिए  पूजा पाठ ,  दान - पुण्य  करने  के  बाद  भी  जीवन  में  अशान्ति  है  ।
आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है --- सोच  सकारात्मक  हो   । 

No comments:

Post a comment