Friday, 6 January 2017

अशान्ति का कारण है ------ राह गलत होना

  सच्चाई  की  राह  पर  चलना,    तलवार   की  धार  पर  चलने  के  सामान  है    लेकिन  इसका  प्रतिफल  है  -- मन  की  शान्ति  |  इस  राह  पर  चलने  के  लिए  बहुत  धैर्य  और   ईश्वर  पर  विश्वास  चाहिए  |
     आज  के  समय  में  लोग  तुरन्त  लाभ  चाहते  हैं  ,  इस  कारण  गलत  राह  का  चयन  कर  लेते  हैं  |  धन - वैभव ,  ऐश - आराम  ,  सारे  सुख  बहुत  जल्दी  मिल  जाएँ  ,   इसी  कारण  समाज  में  अपराध ,  भ्रष्टाचार ,  चरित्र हीनता  की   समस्या   उत्पन्न  होती  है   l   पतन  की  राह  बड़ी  सरल  है ,   इस  राह  पर  अशान्ति  है   जैसे  जब   रात्रि  का  आगमन  होता  है   तो  समूचा  क्षेत्र   अंधकारमय  हो  जाता  है  ,  उसी  प्रकार   चारित्रिक  पतन  सम्पूर्ण  समाज  को  अपनी   गिरफ्त  में    ले  लेता  है   । ।   
  जब  व्यक्ति   अपनों  को ,  अपने   परिवार  के  सदस्यों  को  पतन  के  गर्त  में  गिरते  हुए  देखता  है  तब  स्थिति  असहनीय  हो  जाती  है  ,  इसी  कारण  तनाव ,  आत्महत्या ,  पारिवारिक  विघटन   आदि  अनेक  समस्याएं  उत्पन्न  होती  हैं  ।
  यह  स्वतंत्रता  व्यक्ति  को  प्रकृति  ने  दी  है  कि   वह  कोई   भी  राह    चुन    सकता  है  ,  उसके  चयन  के  अनुरूप  ही   प्रतिफल  उसे  मिलेगा  ।
    

No comments:

Post a Comment