Saturday, 7 January 2017

निराशा की वजह से जीवन अस्त - व्यस्त हो जाता है

 निराशा  का  भावना   तरक्की  के   रास्ते   बंद  कर  देती  है   ।  यदि  पारिवारिक  जीवन  में  निराशा  है   तो  सुख - शान्ति    नहीं  रहती  ,  इसी  तरह  यदि  आर्थिक  क्षेत्र  में  निराशा  ( मंदी )  हो  तो   जब  लोगों  को  कोई  काम   नहीं  मिल  पाता   इससे  समाज  में  चोरी ,  लूट,  डकैती ,  अपराध ,  व्यभिचार   जैसी   घटनाएँ  बढ़  जाती  हैं    ।
  लोगों  में  ,  विशेष  रूप  से  युवाओं  में  उर्जा  बहुत  होती  है ,  इसका  सदुपयोग  होना  बहुत  जरुरी  है   ।    यदि  यह  शक्ति  गलत  कार्यों  में  लग  गई  तो  विकास  अवरुद्ध  हो  जाता  है  ।  
  युवा  भी  अपना  आदर्श  ढूंढते  हैं    और  उसके  जैसा  बनने  का  प्रयास  करते  हैं    ।  आज  के  समय  में  जब   भ्रष्टाचार  का  बोलबाला  है  ,    लोगों  को  दण्ड  का  भय  नहीं  है  ,    तो  अपना  आदर्श   किसे  बनाये
         पर्यावरण  प्रदूषण  पर  नियंत्रण  के  साथ   मानसिक  प्रदूषण  पर  नियंत्रण  जरुरी  है   ।  

No comments:

Post a comment